UP Shramik Majdur Card Online: उत्तर प्रदेश श्रमिक पंजीकरण 2022, Registration, Apply Online

UP Shramik Majdur Card Online: सरकार द्वारा श्रमिकों के लिए जो भी योजनाएं चली जा रही है uska लाभ सभी श्रमिकों तक पहुंच सके। इस बात को ध्यान रखते हुए उत्तर प्रदेश सरकार ने एक योजना प्रारंभ की गई है। जिसका नाम है उत्तर प्रदेश श्रमिक योजना। आज हम इस लेख के माध्यम से श्रमिक पंजीकरण से संबंधित सभी महत्वपूर्ण जानकारी प्रदान करने जा रहे हैं।

UP Shramik Majdur Card

उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा श्रमिक पंजीकरण योजना की शुरुआत की है। इस योजना के माध्यम से उत्तर प्रदेश के सभी मजदुर वर्ग को पंजीकृत किया जाएगा। इन पंजीकृत के दौरान सरकार द्वारा लाभ प्रदान किया जाएगा। श्रमिक पंजीकरण योजना के अंतर्गत सभी श्रमिक आवेदन कर सकते है। श्रमिक पंजीकरण योजना के माध्यम इ श्रमिकों को आसानी से आर्थिक सहायता प्रदान की जाएगी। यह आर्थिक सहायता मजदूरों के सीधे बैंक अकाउंट में पहुंचाई जाएगी। मौजूदा समय में उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा ₹12000 से लेकर ₹100000 की आर्थिक सहायता प्रदान की जा रही है। इन योजनाओं का लाभ उठाने के लिए सभी श्रमिकों को अपना आवेदन आधिकारिक वेबसाइट पर करवाना होगा।

Contents

UP Shramik Majdur Card Online

जैसे कि आप सब जानते है उत्तर प्रदेश हर्मिक कार्ड सभी उत्तर प्रदेश के मजदुर वर्ग के परिवारों के लिए शुरू की गई है। यह कार्ड बनवाने के लिए श्रमिकों को ऑफिसियल वेबसाइट पर जाकर ऑनलाइन आवेदन करना होगा। ऑनलाइन आवेदन खुद भी किया जा सकता है तथा जन सेवा केंद्र के माध्यम से भी किया जा सकता है। आपको बता दे कि ऑनलाइन आवेदन करने के लिए कही आपको जाने की जरूरत नहीं है आप घर बैठे इंटरनेट के माध्यम से आसानी से आवेदन कर सकते है।

Shramik Panjikaran 2022- Highlights

योजना का नाम   उत्तर प्रदेश श्रमिक पंजिकरण
लॉन्च किया   मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी ने
लाभार्थी   राज्य का श्रमिक
मुख्य लाभ   श्रमिक कार्ड प्रदान करने और विभिन्न राज्य लाभ प्राप्त करने के लिए
योजना उद्देश्य  वित्तीय सहायता के लिए
योजना के तहत  राज्य सरकार
राज्य का नाम  उत्तर प्रदेश
आधिकारिक वेबसाइट www.uplabour.gov.in, uplabouracts.in

कौन-कौन श्रमिक पंजीकरण करवा सकते है?

बिल्डिंग का कार्य करने वाले कुआ खोदने वाले छप्पर छानेवाले
कारपेंटर का कार्य करने वाले राजमिस्त्री लोहार
प्लम्बर सड़क निर्माण करने वाले इलेक्ट्रिक वाले
पुताई करने वाले हतोड़ा चलानेवाले मोजेक पोलिश
चट्टान तोड़ने वाले निर्माण स्थल पर चौकीदारी करने वाले पत्थर तोड़ने वाले
लेखाकार का काम करने वाले बांध प्रबंधक ,भवन निर्माण के अधीन कार्य करने वाले खिड़की ग्रिल एवं दरवाज़ों की गढ़ाई और स्थापना करने वाले
इट भट्टों पर इट का निर्माण करने वाले सीमेंट ,पत्तर ढोने का काम करने वाले  चुना बनाने का काम करने वाले

इन 17 सरकारी योजनाओ का लाभ उठा सकते है श्रमिक मजदूर वर्ग के लोग

मेधावी छात्र पुरुस्कार योजना शिशु हितलाभ योजना निर्माण कामगार बालिका मदद योजना
निर्माण श्रमिक भोजन सहायता योजना मातृत्व हितलाभ योजना संत रविदास शिक्षा सहायता योजना
कौशल विकास तकनीकी योजना आवासीय विद्यालय योजना सोर ऊर्जा सहायता योजना
चिकित्सा सुविधा योजना कन्या विवाह योजना आवास सहायता योजना
गंभीर बीमारी सहायता योजना अक्षमता पेंशन योजना पेंशन सहायता योजना
निर्माण कामगार अन्ते यष्टि योजना निर्माण कामगार मृत्यु एवं विकलांगता सहायता योजना

UP Shramik Majdur Card Online

UP श्रमिक कार्ड के लिए ऑनलाइन Registration कैसे करे?

  • सबसे पहले आपको ऑफिसियल वेबसाइट पर http://upbocw.in/index.aspx जाना होगा।
  • उसके बाद आपके सामने होम पेज खुल जाएगा।
  • होम पेज पर पको अधिनियम प्रबंधन प्रणाली का लिंक दिखाई देगा | फिर आपको इस लिंक पर क्लिक करना होगा।
  • फिर आपके सामने Labour Act Management System वेबसाइट खुल जाएगी | इसके बाद आपको अपनी भाषा का चयन करना होगा फिर वेबसाइट पर दिए गए निर्देशों को पढ़े.

UP Shramik Majdur Card Online

  • पोर्टल के उपयोग हेतु पोर्टल की सदस्यता प्राप्त करनी होगी।
  • अगर आप नए यूज़र हो तो Register Now बटन पर क्लिक करना होगा फिर New Registration पर क्लिक करना होगा। दिए गए फॉर्म में अपना विवरण भरे और फिर यूज़र आईडी और पासवर्ड बनाये।
  • इसके बाद यूज़र नाम और पासवर्ड डालकर लॉगिन करे | अब इस पोर्टल के अधिनियमों के अंतर्गत पंजीयन ,नवीनीकरण ,वार्षिक रिटर्न्स इत्यादि का उपयोग कर सकते है | सबसे पहले एक्ट का चयन करे कर पंजीकरण पर क्लिक करे।
  • क्लिक करने के बाद अगले पेज पर दिए गए निर्देश पढ़े और ‘I Have Read All Instruction Carefully ‘पर टिक करके I Agree के विकल्प पर क्लिक करे।

UP श्रमिक कार्ड के लिए Offline Registration कैसे करे?

  • सबसे पहले आपको अपने जिले के श्रम विभाग में जाना होगा।
  • फिर आपको वहां से पंजीकरण फॉर्म लेना होगा।
  • इसके बाद आपको सभी जीकरण फॉर्म में पूछी गई सभी जानकारी ध्यान पूर्वक भरनी होगी।
  • इसके बाद आपको सभी महत्वपूर्ण दस्तावेजों को पंजीकरण फॉर्म से अटैच करना होगा।
  • अब आपको यह फॉर्म श्रम विभाग में जमा करना होगा।

शिकायत दर्ज करने की प्रक्रिया

  • सबसे पहले आपको ऑफिसियल वेबसाइट पर http://upbocw.in/index.aspx जाना होगा।
  • उसके बाद आपके सामने होम पेज खुल जाएगा।
  • फिर आपको आपको ग्रीवांस के विकल्प पर क्लिक करना है। विकल्प पर क्लिक करते ही नया पेज खुलकर आएगा।

UP Shramik Majdur Card Online

  • इसके बाद अब आप ऐड नई ग्रीवांस के विकल्प को क्लिक करें। अब वेबसाइट का नया पेज खुलकर आएगा।
  • यहां शिकायत दर्ज करने के लिए एक फॉर्म दिखेगा जिसमे आपको कुछ जानकारियां पूछी जाएँगी जैसे की शिकायत ,शिकायत का प्रकार , ईमेल आईडी , मोबाइल नंबर , नाम, जेंडर , डिस्ट्रिक्ट एड्रेस , आदि।
  • सभी जानकारी भरने के बाद आपको केवल सबमिट के बटन को और इस प्रक्रिया से आप अपनी शिकायत दर्ज कर पाएंगे।

UP श्रमिक पंजीकरण के लाभ- Benefits of UP Labour Registration

  • सरकार द्वारा कन्या विवाह योजना के माध्यम दो बेटियों की शादी पर 55 -55 हज़ार रूपये की आर्थिक सहायता प्रदान की जाएगी।
  • मातृत्व हितलाभ योजना के माध्यम से पंजीकरण महिलाओ को 12 हज़ार रूपये और शिशु लाभ हेतु लड़का होने पर 10 हज़ार रूपये और लड़की होने पर 12 हज़ार रूपये की आर्थिक सहायता प्रदान की जाएगी।
  • आवास योजना के अंतर्गत मकान बनाने के लिए 1 लाख रुपए और भवन मरम्मत के लिए 15 हज़ार रूपये दिए जाएंगे।
  • मेधावी छात्र योजना के अंतर्गत कक्षा 5 से 7 तक 4 हज़ार रूपये ,कक्षा 8 में 5 हज़ार रूपये ,कक्षा 9 व दस में 5 हज़ार रूपये ,कक्षा 11 व 12 में 8 हज़ार रूपये ,स्नातक ,से ऊपर इंजीनियरिंग या डिग्री की पढाई करने पर 11 हज़ार रूपये से 22 हज़ार रूपये तक प्रदान किए जाएंगे।

श्रमिक पंजीकरण के पात्रता- Eligibility For Labour Registration

  • आवेदक उत्तर प्रदेश का स्थायी निवासी होना चाहिए ।
  • आवेदक की आयु  18 से 60 वर्ष के मध्य होनी चाहिए |
  • जिन श्रमिकों ने पिछले 12 महीने में कम से कम 90 दिन निर्माण श्रमिक के रूप में कार्य किया हो |
  • श्रमिक पंजीकरण में केवल परिवार के मुखिया के नाम पर ही श्रमिक कार्ड बनता है |
  • आधार कार्ड
  • राशन कार्ड
  • मतदाता पहचान पत्र
  • भामाशाह कार्ड
  • बैंक का विवरण
  • मोबाइल नंबर
  • पासपोर्ट साइज फोटो
  • परिवार के सभी सदस्यों का पहचान पत्र

यह भी पढ़िए: Uttar Pradesh Shramik Registration

श्रमिक पंजीकरण स्टैटिसटिक्स-UP Labour Registration Statistics

Total registered labour 93.92 lakh
Registered labour in 2020-21 41.36 lakh
Total renewed labour 62.70 lakh
Total renewed labour in 2020-21 12.35 lakh
Total verified scheme in 2020-21 31.55 lakh
Total transfer amount in 2020-21 483.21 lakh

मातृत्व, शिशु एवं बालिका मदद योजना

योजना का नाम मातृत्व, शिशु एवं बालिका मदद योजना
पात्रता श्रमिक द्वारा केवल दो प्रसावो तक ही इस योजना का लाभ उठाया जा सकता है। केवल संस्थागत प्रसव में ही इस योजना का लाभ महिला श्रमिक को देय होगा। बालिका मदद योजना का लाभ पहली संतान कन्या एवं दूसरी संतान कन्या होने पर देय होगा। सभी निसंतान दंपति जिन्होंने कानूनी रूप से कन्या को गोद लिया है वह भी इस योजना का लाभ उठा सकते हैं।
महत्वपूर्ण दस्तावेज अद्यतन पंजीयन, परिवार रजिस्टर, आधार कार्ड, बैंक पासबुक की छायाप्रति, वाद्यानिक गोदनामा, ऑनलाइन जारी जन्म प्रमाण पत्र, राजकीय अस्पताल में संस्थागत प्रसव/गर्भपात/नसबंदी होने संबंधित प्रमाण पत्र
लाभ मातृत्व हितलाभ के अंतर्गत पुरुष कामगार को ₹6000 प्रदान किए जाएंगे। सभी महिला कामगार संस्थागत प्रसव की स्थिति में तीन महा का न्यूनतम वेतन के समर्थन धनराशि तथा ₹1000 चिकित्सा बोनस प्राप्त कर सकेंगी। यदि महिला का गर्भपात हो जाता है तो 6 सप्ताह का समतुल्य न्यूनतम वेतन प्रदान किया जाएगा। यदि महिला नसबंदी करवाती है तो 2 सप्ताह का समतुल्य न्यूनतम वेतन प्रदान किया जाएगा। यदि पंजीकृत कामगार का शिशु पुत्र होता है तो इस स्थिति में ₹20000 प्रदान किए जाएंगे और ज्यादा पुत्री होती है तो  इस स्थिति में ₹25000 प्रदान किए जाएंगे। यदि परिवार की पहली संतान बालिका एवं दूसरी संतान भी बालिका होती है तो इस स्थिति में ₹25000 की सावधि जमा की जाएगी। यदि जन्म लेने वाली संतान दिव्यांग बालिका होती है तो उस स्थिति में ₹50000 की सावधि जमा की जाएगी। यह राशि बालिका को 18 वर्ष की आयु पूरी होने के बाद प्रदान की जाएगी

संत रविदास शिक्षा सहायता योजना

योजना का नाम संत रविदास शिक्षा सहायता योजना
पात्रता आवेदक उत्तर प्रदेश का स्थाई निवासी होना अनिवार्य है। आवेदक की आयु 25 वर्ष या फिर उससे कम होनी चाहिए।
महत्वपूर्ण दस्तावेज आधार कार्ड बैंक अकाउंट पासबुक कॉलेज प्रवेश प्रमाण पत्र निवास प्रमाण पत्र जन्म प्रमाण पत्र पंजीकृत प्रमाण पत्र दसवीं कक्षा मार्कशीट
लाभ केवल एक परिवार के दो बच्चों द्वारा ही इस योजना का लाभ उठाया जा सकता है। वे सभी बालिका जिन्होंने कक्षा 10 एवं 12 उत्तीर्ण कर ली है उनको साइकिल प्रदान की जाएगी। कक्षा 1 से 5 तक ₹150 प्रतिमाह, कक्षा 6 से 10 तक ₹200 प्रतिमाह तथा कक्षा 11 से 12 तक ₹250 प्रति माह इस योजना के अंतर्गत प्रदान किए जाएंगे। स्नातक पाठ्यक्रम वाले छात्र को ₹1000, परास्नातक छात्र को ₹2000 एवं मेडिकल/ इंजीनियरिंग पाठ्यक्रम वाले छात्र को ₹8000 प्रदान किए जाएंगे।  

मेधावी छात्र पुरस्कार योजना

योजना का नाम मेधावी छात्र पुरस्कार योजना
पात्रता आवेदक उत्तर प्रदेश का स्थाई निवासी होना अनिवार्य है। कक्षा 5 से 9 तक आवेदक द्वारा कम से कम 55% अंक प्राप्त किए होने चाहिए। छात्र द्वारा कक्षा 10 से 12 तक कम से कम 50% अंक प्राप्त किए होने चाहिए। आवेदक द्वारा आईटीआई, बीए, बी कॉम, m.a., एमकॉम आदि में 60% अंक प्राप्त किए होने चाहिए।
महत्वपूर्ण दस्तावेज आधार कार्ड फीस रिसिप्ट बैंक खाता पासबुक पंजीकृत प्रमाण पत्र परीक्षा प्रमाण पत्र अगली परीक्षा में प्रवेश लेने हेतु प्रमाण पत्र इस
लाभ इस योजना के अंतर्गत छठी कक्षा उत्तीर्ण होने पर पुरस्कार राशि प्रदान की जाएगी। यदि कोई छात्र कक्षा उत्तीर्ण करने में असफल रहता है तो उसे दूसरी किस्त की राशि नहीं प्रदान की जाएगी।  

आवासीय विद्यालय योजना

योजना का नाम आवासीय विद्यालय योजना
पात्रता इस योजना का लाभ प्राप्त करने के लिए आवेदक उत्तर प्रदेश का स्थाई निवासी होना चाहिए। आवेदक की आयु 6 से 14 वर्ष के बीच होनी चाहिए।
महत्वपूर्ण दस्तावेज पंजीयन प्रमाण पत्र अद्यतन अंशदान जमा प्रमाण पत्र आधार कार्ड
लाभ इस योजना को प्रदेश के 12 जनपदों में संचालित किया जा रहा है। इस योजना को अटल आवासीय विद्यालय में प्रारंभ होने के बाद विलय किया गया है। सरकार द्वारा इस योजना के अंतर्गत निशुल्क आवास, भोजन, वस्त्र एवं अन्य सुविधाएं उपलब्ध करवाई जाएंगी। सभी 6 से 14 वर्ष के श्रमिकों के पुत्र पुत्री को निशुल्क आवासीय शिक्षा प्रदान की जाएगी।

कौशल विकास, तकनीकी उन्नयन एवं प्रमाणन योजना

योजना का नाम कौशल विकास, तकनीकी उन्नयन एवं प्रमाणन योजना
पात्रता आवेदक का उत्तर प्रदेश का स्थाई निवासी होना अनिवार्य है। आवेदक स्वयं श्रमिक होना चाहिए या फिर उसकी पति या पत्नी श्रमिक होनी चाहिए। पुत्र की अधिकतम आयु 21 वर्ष होनी चाहिए। इस योजना के अंतर्गत पत्नी और अविवाहित पुत्री की कोई आयु सीमा नहीं है। आवेदक की आयु 18 से 35 वर्ष के बीच होनी चाहिए।
महत्वपूर्ण दस्तावेज प्रशिक्षण आवेदन पत्र पंजीयन प्रमाण पत्र आधार कार्ड
लाभ इस योजना के माध्यम से श्रमिकों को विकास मिशन के अंतर्गत निशुल्क प्रशिक्षण प्रदान किया जाएगा। प्रशिक्षण पूर्ण होने पर न्यूनतम वेतन से समतुल्य राशि प्रदान की जाएगी। इस योजना के माध्यम से श्रमिकों से मूल्यांकन परीक्षा भी कराई जाएगी।

सौर ऊर्जा सहायता योजना

योजना का नाम सौर ऊर्जा सहायता योजना
पात्रता आवेदक श्रमिक उत्तर प्रदेश का स्थाई निवासी होना चाहिए। श्रमिक पंजीकृत होना चाहिए। इस योजना का लाभ परिवार का केवल एक व्यक्ति एक बार ही उठा पाएगा। 9 से 12 कक्षा में पढ़ रहे आवेदकों के बच्चों को वरीयता दी जाएगी।
महत्वपूर्ण दस्तावेज ₹25 का अतिरिक्त अंशदान आधार कार्ड पंजीयन प्रमाण पत्र वांछित वरीयता के अभिलेख
लाभ इस योजना के अंतर्गत लगाए गए उपकरणों पर 5 वर्ष की गारंटी प्रदान की जाएगी। इस योजना के अंतर्गत दो एलईडी बल्ब, एक डीसी टेबल फैन, एक सोलर पैनल चार्जिंग कंट्रोलर, एक मोबाइल चार्जर स्थापित किया जाएगा। इस योजना का लाभ श्रमिकों को स्थाई आवास में प्रदान किया जाएगा।

कन्या विवाह अनुदान योजना

योजना का नाम कन्या विवाह अनुदान योजना
पात्रता आवेदक श्रमिक उत्तर प्रदेश का स्थाई निवासी होना अनिवार्य है। आवेदक श्रमिक पंजीकृत होना अनिवार्य है। वह भी पंजीकृत श्रमिक होना चाहिए। आवेदक के पंजीकरण को 100 दिन पूर्ण हो चुके हो। इस योजना का लाभ प्राप्त करने के लिए वधु की आयु 18 वर्ष एवं वर्ग की आयु 21 वर्ष होनी अनिवार्य है।
महत्वपूर्ण दस्तावेज घोषणा पत्र विवाह का प्रमाण पत्र वर का आयु प्रमाण पत्र पंजीयन प्रमाण पत्र आधार कार्ड
लाभ इस योजना के अंतर्गत पंजीकृत श्रमिक की अविवाहित पुत्री को स्वजातीय विवाह में ₹55000 प्रति पुत्री एवं अंतरजातीय विवाह में ₹61000 प्रति पुत्री की आर्थिक सहायता प्रदान की जाएगी। यदि 11 जोड़ों का सामूहिक विवाह आयोजित किया जा रहा है तो इस स्थिति में ₹65000 की धनराशि प्रदान की जाएगी। इसके अलावा प्रति जोड़ा ₹7000 का आयोजन व्यय भी बोर्ड द्वारा वाहन किया जाएगा। वर वधु के पोशाक के लिए ₹5000 भी प्रदान किए जाएंगे। विधवा विवाह एवं वाध्यानिक विवाह की स्थिति में सरकार द्वारा देय धनराशि वर वधु को उपलब्ध करवाई जाएगी।

आवास सहायता योजना

योजना का नाम आवास सहायता योजना
पात्रता आवेदक उत्तर प्रदेश का स्थाई निवासी होना अनिवार्य है। आवेदक एक पंजीकृत श्रमिक होना चाहिए। श्रमिक एवं उसके परिवार के पास कोई भी रिहायशी मकान उपलब्ध नहीं होना चाहिए। केवल उनके पास मकान बनाने के लिए पर्याप्त भूमि होनी चाहिए। आवेदक का पंजीकरण 5 वर्ष पुराना होना चाहिए एवं आवेदक की आयु 55 वर्ष या फिर उससे ज्यादा होनी चाहिए। श्रमिक द्वारा पहले से इस प्रकार की किसी योजना का लाभ नहीं उठाया जा रहा हो।
महत्वपूर्ण दस्तावेज बैंक अकाउंट पासबुक भूमि होने के कागजात स्थाई प्रमाण पत्र पंजीकृत प्रमाण पत्र आधार कार्ड
लाभ इस योजना के माध्यम से श्रमिक को अपना खुद का आवास बनाने के लिए ₹100000 की धनराशि उपलब्ध करवाई जाएगी। पूर्व में उपलब्ध आवास के लिए ₹15000 की धनराशि मरम्मत हेतु उपलब्ध करवाई जाएगी। एक ही लाभार्थी दोनों योजनाओं का लाभ नहीं प्राप्त कर सकता।

शौचालय सहायता योजना

योजना का नाम शौचालय सहायता योजना
पात्रता आवेदक उत्तर प्रदेश का स्थाई निवासी होना अनिवार्य है। आवेदक एक अद्यतन पंजीकृत श्रमिक होना अनिवार्य है। श्रमिक की आवास में पहले से शौचालय की सुविधा उपलब्ध नहीं होनी चाहिए। श्रमिक द्वारा इस प्रकार की किसी अन्य योजना का लाभ नहीं उठाया जा रहा हो। आवेदक के पास राष्ट्रीय कृत बैंक में खाता होना अनिवार्य है।
महत्वपूर्ण दस्तावेज बैंक अकाउंट पासबुक पंजीकृत प्रमाण पत्र आधार कार्ड
लाभ इस योजना के अंतर्गत लाभार्थी को ₹12000 की धनराशि दो किस्तों में प्रदान की जाएगी। यह धनराशि लाभार्थी के खाते में वितरित की जाएगी। जिला पंचायत राज अधिकारी द्वारा लाभार्थी का चयन किया जाएगा।

चिकित्सा सुविधा योजना

योजना का नाम चिकित्सा सुविधा योजना
पात्रता श्रमिक उत्तर प्रदेश का स्थाई निवासी होना अनिवार्य है। आवेदक निर्माण श्रमिक बोर्ड में पंजीकृत होना अनिवार्य है। श्रमिक का अद्यतन अंशदान जमा होना चाहिए।
महत्वपूर्ण दस्तावेज बैंक खाता पासबुक अद्यतन अंशदान जमा का प्रमाण पंजीयन प्रमाण पत्र आधार कार्ड
लाभ इस योजना के माध्यम से विवाहित निर्माण श्रमिक को ₹3000 की आर्थिक सहायता प्रदान की जाएगी एवं अविवाहित निर्माण श्रमिक को ₹2000 की आर्थिक सहायता प्रदान की जाएगी। यह आर्थिक सहायता प्रतिवर्ष प्रदान की जाएगी। विवाहित जोड़े में से केवल एक ही इस योजना का लाभ प्राप्त कर सकता है। इस योजना के माध्यम से मिलने वाली धनराशि सीधे लाभार्थी के बैंक खाते में वितरित की जाएगी।  

आपदा राहत सहायता योजना

योजना का नाम आपदा राहत सहायता योजना
पात्रता आवेदक उत्तर प्रदेश का स्थाई निवासी होना अनिवार्य है। केवल अद्यतन रूप से पंजीकृत श्रमिक ही इस योजना का लाभ उठा सकते हैं।
महत्वपूर्ण दस्तावेज बैंक खाता विवरण आधार संख्या
लाभ केंद्र/राज्य सरकार द्वारा तय की गई अवधि (वार्षिक/अदवार्षिक/त्रैमासिक/मासिक) मैं पंजीकृत लाभार्थी को एकमुश्त ₹1000 की धनराशि प्रदान की जाएगी।

महात्मा गांधी पेंशन योजना

योजना का नाम महात्मा गांधी पेंशन योजना
पात्रता आवेदक उत्तर प्रदेश का स्थाई निवासी होना अनिवार्य है। श्रमिक की आयु 60 वर्ष या फिर उससे ज्यादा होनी चाहिए। पंजीकरण की न्यूनतम अवधि 10 वर्ष निर्धारित की गई है। आवेदक द्वारा किसी और सामान्य पेंशन योजना का लाभ ना उठाया जा रहा हो।
महत्वपूर्ण दस्तावेज निवास प्रमाण पत्र बैंक खाता पासबुक आधार कार्ड पेंशन धारक की मृत्यु की स्थिति में मृत्यु प्रमाण पत्र
लाभ इस योजना के माध्यम से आवेदक को प्रति माह ₹1000 की राशि उपलब्ध करवाई जाएगी। प्रति 2 वर्ष के बाद पेंशन की राशि में ₹50 की वृद्धि की जाएगी। आवेदक की मृत्यु हो जाने पर पेंशन उसकी पत्नी को प्रदान की जाएगी।

गंभीर बीमारी सहायता योजना

योजना का नाम गंभीर बीमारी सहायता योजना  
पात्रता आवेदक उत्तर प्रदेश का स्थाई निवासी होना अनिवार्य है। श्रमिक की पुत्र तथा पुत्री की आयु 21 वर्ष या फिर उससे कम होनी चाहिए। आवेदक द्वारा प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना तथा मुख्यमंत्री जन आरोग्य योजना का लाभ उठाया जा रहा हो।
महत्वपूर्ण दस्तावेज आधार कार्ड चिकित्सा प्रमाण पत्र बीमारी से संबंधित अभिलेख अविवाहित पुत्री का जन्म प्रमाण पत्र अद्यतन पंजीकृत प्रमाण पत्र
लाभ इस योजना के माध्यम से आवेदक द्वारा सरकारी एवं निजी अस्पताल में इलाज करवाया जा सकेगा। इस योजना के अंतर्गत सरकार द्वारा कोई भी अधिकतम राशि निर्धारित नहीं की गई है। यदि आवेदक द्वारा चिकित्सा एवं निजी अस्पताल में इलाज करवाया गया है तो इस योजना के अंतर्गत अग्रिम राशि का भुगतान किया जाएगा।

मृत्यु, विकलांगता सहायता एवं अक्षमता पेंशन योजना

योजना का नाम मृत्यु, विकलांगता सहायता एवं अक्षमता पेंशन योजना  
पात्रता आवेदक उत्तर प्रदेश का स्थाई निवासी होना चाहिए। आवेदक द्वारा किसी और पेंशन योजना का लाभ ना उठाया जा रहा हो।
महत्वपूर्ण दस्तावेज मृत्यु प्रमाण पत्र आधार कार्ड बैंक अकाउंट पासबुक
लाभ इस योजना के माध्यम से कार्यस्थल पर दुर्घटना के समय मृत्यु होने पर ₹500000 की धनराशि प्रदान की जाएगी। यदि कार्यस्थल से भिन्न स्थाई विकलांगता होती है या फिर सामान्य मृत्यु होती है तो इस स्थिति में ₹200000 की आर्थिक सहायता प्रदान की जाएगी। कार्यस्थल पर दुर्घटना के समय हुई स्थाई विकलांगता की स्थिति में ₹300000 की आर्थिक सहायता प्रदान की जाएगी। यदि अपंजीकृत श्रमिक की कार्यस्थल पर दुर्घटना मैं मृत्यु हो जाती है तो उस स्थिति में ₹50000 की आर्थिक सहायता प्रदान की जाएगी। किसी दुर्घटना या बीमारी के कारण पूर्ण आश्रम होने पर पूरे जीवन काल तक 1500–1250–1000 की पेंशन प्रदान की जाएगी।

अंत्येष्टि सहायता योजना

योजना का नाम अंत्येष्टि सहायता योजना
पात्रता आवेदक उत्तर प्रदेश का स्थाई निवासी होना चाहिए। आवेदक बोर्ड में पंजीकृत होना चाहिए। आवेदक की मृत्यु हो चुकी हो।
महत्वपूर्ण दस्तावेज मृत्यु प्रमाण पत्र अद्यतन जमा का प्रमाण पंजीयन प्रमाण पत्र आधार कार्ड
लाभ इस योजना के माध्यम से ₹25000 की धनराशि मृतक के नॉमिनी को प्रदान की जाएगी।

Contact Information

  • Help Desk(Mon- Fri, 10:00AM To 02:00PM)
  • Phone: 0512-2295176 (Only for Technical Assistance.)
  • Email: helpdesk.uplabouracts@gmail.com

इस लेख को पढ़ने के लिए आपका बहुत-बहुत धन्यवाद। अगर आपको इस लेख से जुड़ी कोई जानकारी चाहिए तो आप हमें कमेंट बॉक्स के जरिए बता सकते हैं। इस लेख को अपने दोस्तों या रिश्तेदारों के साथ जरूर शेयर करें। एक बार फिर से धन्यवाद।

UP श्रमिक मजदुर कार्ड ऑनलाइन योजना क्या हैं?

सरकार द्वारा श्रमिकों के लिए जो भी योजनाएं चली जा रही है uska लाभ सभी श्रमिकों तक पहुंच सके। इस बात को ध्यान रखते हुए उत्तर प्रदेश सरकार ने एक योजना प्रारंभ की गई है। जिसका नाम है उत्तर प्रदेश श्रमिक योजना।

UP श्रमिक मजदुर कार्ड योजना का लाभ बताइये?

सरकार द्वारा कन्या विवाह योजना के माध्यम दो बेटियों की शादी पर 55 -55 हज़ार रूपये की आर्थिक सहायता प्रदान की जाएगी।
मातृत्व हितलाभ योजना के माध्यम से पंजीकरण महिलाओ को 12 हज़ार रूपये और शिशु लाभ हेतु लड़का होने पर 10 हज़ार रूपये और लड़की होने पर 12 हज़ार रूपये की आर्थिक सहायता प्रदान की जाएगी।

श्रमिक पंजीकरण की पात्रता बताइये?

आवेदक उत्तर प्रदेश का स्थायी निवासी होना चाहिए । आवेदक की आयु  18 से 60 वर्ष के मध्य होनी चाहिए |
जिन श्रमिकों ने पिछले 12 महीने में कम से कम 90 दिन निर्माण श्रमिक के रूप में कार्य किया हो |
श्रमिक पंजीकरण में केवल परिवार के मुखिया के नाम पर ही श्रमिक कार्ड बनता है |