Solar power scheme for farmers 2021 | Kusum Scheme | 0.5 से 2 मेगावाट तक के लग सकते हैं प्लांट

Solar power scheme for farmers । Solar power scheme for farmers 2021। Solar power scheme 2021 । PM KUSUM Component-A Scheme ।Solar power scheme for farmers 2021 PM KUSUM component-A। PM KUSUM component-A Solar power scheme for farmers 2021।PM KUSUM component-A Solar power scheme for farmers ।PM KUSUM component-A Solar power scheme । प्रधानमंत्री किसान ऊर्जा सुरक्षा एवं उत्थान महाअभियान योजना (पीएम कुसुम) कम्पोनेंट-ए ।प्रधानमंत्री किसान ऊर्जा सुरक्षा एवं उत्थान महाअभियान योजना ।प्रधानमंत्री किसान ऊर्जा सुरक्षा एवं उत्थान महाअभियान योजना (पीएम कुसुम) ।सोलर पावर स्कीम फॉर फार्मर्स ।सोलर पावर स्कीम फॉर फार्मर्स 2021 ।सोलर पावर स्कीम। सोलर पावर स्कीम 2021

Solar power scheme for farmers
Solar power scheme for farmers 2021 | Kusum Scheme | 0.5 से 2 मेगावाट तक के लग सकते हैं प्लांट 4

PM Kusum Scheme | Solar power scheme for farmers 2021

नवीन एंव नवीकरणीय ऊर्जा मंत्रालय की प्रधानमंत्री किसान ऊर्जा सुरक्षा एवं उत्थान महाअभियान योजना (PM Kusum Scheme) कम्पोनेंट-ए के अंतर्गत प्रदेश के किसान अब बिजली बेच सकेंगे। किसानों की अनुपयोगी/बंजर भूमि Barren land पर सौर ऊर्जा से उत्पादित बिजली की खरीद के लिए कृषकों/ विकासकर्ताओं और राजस्थान अक्षय ऊर्जा निगम के बीच ‘विधुत क्रय अनुबंध’(पावर परचेज एग्रीमेंट) तय हो गया है।

Solar power scheme for farmers 2021 | PM Kusum Scheme

प्रदेश में कम्पोनेंट-ए के अंतर्गत 722 मेगावाट क्षमता के सौर ऊर्जा परियोजनाओं की स्थापना के लिए 623 कृषकों/ विकासकर्ताओं ने आवंटन पत्र जारी किए गए हैं। इस योजना में सौर ऊर्जा सयंत्रों से उत्त्पन हुई बिजली को 3.14 रुपए की दर से 25 वर्ष तक चयनित किसान/ विकासकर्ता बेच सकेंगे। किसानों द्वारा अजमेर जिले में 9 जगहों पर कम्पोनेंट-ए के अंतर्गत सोलर पावर प्लांट लगाया जाएगा।जिले के पड़ांगा में 0.5 मेगावाट,पाटन 1 मेगावाट, बधवाड़ा 1 मेगाावाट,भदूण 1 मेगावाट,कुचील 0.5 मेगावाट, उऊंटडा 1 मेगावाट, जेठाना 2 मेगावाट बिजली electricity का उत्पादन किया जायेगा।

Solar power scheme for farmers तीन साल में 2600 मेगावाट का लक्ष्य PM Kusum Scheme

केंद्र सरकार ने बजट 2019-20 की घोषणा में आने वाले तीन साल में कुल 2600 मेगावाट क्षमता के सौर ऊर्जा प्लांट किसानों की बंजर/अनुपयोगी भूमि पर स्थापित करने और उनसे उत्पादित बिजली खरीदने का लक्ष्य तय किया गया है। उसमे से 722 मेगावाट क्षमता की परियोजनाओं से उत्पादित बिजली खरीद के लिए 623 किसानों/ विकासकर्ताओं से पावर परचेज एग्रीमेंट किया गया है। शेष 1878 मेगावाट क्षमताओं की सौर ऊर्जा परियोजनाओं की स्थापना के लिए कार्यवाही आगामी चरणों में की जाएगी।

Solar power scheme for farmers

0.5 से 2 मेगावाट तक के लग सकते हैं प्लांट

PM Kusum Scheme :- प्रधानमंत्री किसान ऊर्जा सुरक्षा एवं उत्थान महाअभियान योजना (PM Kusum) कम्पोनेंट-ए योजना के अंतर्गत किसान/ विकासकर्ता अपनी खुद की अनुपयोगी/ बंजर भूमि पर 0.5 से 2 मेगावाट क्षमता के सौर ऊर्जा संयत्रों की स्थापना कर सकते है। इस योजना से किसानों कों अपनी बंजर/ अनुपयोगी भूमि से 25 वर्ष तक निश्चित नियमित आय प्राप्त होगी। इसके अलावा विधुत वितरण निगमों की विधुत छीजत में तथा सिस्टम विस्तार में होने वाले खर्च में भी कमी जाएगी।

केंद्र सरकार का कहना है कि इस योजना से किसान सम्बन्धित GSS क्षेत्र में बेकार पड़ी भूमि पर सोलर प्लांट लगाकर एक निश्चित लाभ 25 साल तक अर्जित कर सकेंगे। इससे उनका आर्थिक उत्थान होगा। बेकार पड़ी बंजर भूमि का भी उपयोग हो सकेगा।

Solar power scheme for farmers का मुख्य उद्देश्य

Solar power scheme for farmers/  सोलर पावर स्कीम फॉर फार्मर्स का मुख्य उद्देश्य किसानों की अनुपयोगी/बंजर भूमि Barren land पर सौर ऊर्जा से बिजली उत्त्पन्न करना और उसे बेचकर किसानो को नियमित आय प्राप्त करवाना। इस योजना में सौर ऊर्जा सयंत्रों से उत्त्पन हुई बिजली को 3.14 रुपए की दर से 25 वर्ष तक चयनित किसान/ विकासकर्ता बेच सकेंगे।

सोलर पावर स्कीम फॉर फार्मर्स के  लाभ/Solar power scheme for farmers Benefits

  • PM Kusum Scheme का लाभ देश के किसानो को मिलेगा जिनके पास अपनी खुद ज़मीन है
  • PM Kusum योजना के तहत सौर ऊर्जा सयंत्रों से उत्त्पन हुई बिजली को 3.14 रुपए की दर से 25 वर्ष तक चयनित किसान/ विकासकर्ता बेच सकेंगे।
  • सोलर पावर स्कीम फॉर फार्मर्स से किसानों कों अपनी बंजर/ अनुपयोगी भूमि से 25 वर्ष तक निश्चित नियमित आय प्राप्त होगी।
  • इसके अलावा विधुत वितरण निगमों की विधुत छीजत में तथा सिस्टम विस्तार में होने वाले खर्च में भी कमी जाएगी।
  • प्रदेश में कम्पोनेंट-ए के अंतर्गत 722 मेगावाट क्षमता के सौर ऊर्जा परियोजनाओं की स्थापना के लिए 623 कृषकों/ विकासकर्ताओं ने आवंटन पत्र जारी किए गए हैं।

Solar power scheme for farmers

पहले कॉम्पोनेन्ट ए के तहत, 500 Kilowatt से 2 मेगावाट क्षमता वाले नवीकरणीय बिजली संयंत्र व्यक्तिगत किसानों / सहकारी समितियों / पंचायतों / किसान उत्पादक संगठनों (FPO) द्वारा अपने बंजर या खेती योग्य भूमि पर लगाए जाएंगे। उत्पन्न बिजली को डिस्कॉम से संबंधित SERC द्वारा निर्धारित टैरिफ में फ़ीड पर खरीदी जाएगी। यह योजना ग्रामीण भूमि मालिकों के लिए आय का एक स्थिर और निरंतर स्रोत खोलेगी। प्रदर्शन आधारित प्रोत्साहन @ रु। DISCOM को प्रदान की जाने वाली पाँच वर्षों के लिए 0.40 प्रति यूनिट।

For more details visit the official website : https://mnre.gov.in/

Solar power scheme for farmers 2021 क्या है ?

इस योजना में सौर ऊर्जा सयंत्रों से उत्त्पन हुई बिजली को 3.14 रुपए की दर से 25 वर्ष तक चयनित किसान/ विकासकर्ता बेच सकेंगे।

Solar power scheme for farmers 2021 का लक्ष्य क्या है

केंद्र सरकार ने बजट 2019-20 की घोषणा में आने वाले तीन साल में कुल 2600 मेगावाट क्षमता के सौर ऊर्जा प्लांट किसानों की बंजर/अनुपयोगी भूमि पर स्थापित करने और उनसे उत्पादित बिजली खरीदने का लक्ष्य तय किया गया है।

Solar power scheme for farmers 2021 का मुख्य उद्देश्य क्या है ?

लर पावर स्कीम फॉर फार्मर्स का मुख्य उद्देश्य किसानों की अनुपयोगी/बंजर भूमि Barren land पर सौर ऊर्जा से बिजली उत्त्पन्न करना और उसे बेचकर किसानो को नियमित आय प्राप्त करवाना।