Paramparagat Krishi Vikas Yojana 2021 (PMVY) ONLINE Registration व LOGIN

Paramparagat Krishi Vikas Yojana 2021-: नमस्ते !मित्रो आज हम बात करेंगे PKVY की अब आपके मन में एक सवाल आ रहा होगा की PKVY क्या है ? तो दोस्तों PKVY का पूरा नाम परम्परागत कृषि विकास योजना है। मैं आपको बताना चाहूंगी की पारम्परिक कृषि के मुकाबलें जैविक कृषि सेहत के लिए बहुत अच्छी होती है। जैविक कृषि में कम कीटनाशी का प्रयोग होता है। इसके अतिरिक्त जैविक कृषि भू-जल और सतह के जल में Nitrate की Leaching को भी कम करती है। इन्ही सारी बातो को मद्देनज़र रखते हुए।

भारत सरकार द्वारा किसानो को जैविक कृषि करने के लिए उत्साहित किया जा रहा है इसी वजह से भारत सरकार ने परम्परागत खेती विकास योजना को शुरू किया है। इस योजना के जरिये से किसानो को जैविक कृषि करने के लिए आर्थिक मदद दी जायेगी। मैं आपको इस लेख में इस योजना की महत्पूर्ण विशेषताएं ,IMPORTANT DOCUMENTS , Benefits, Eligibility,इत्यादि की जानकारी दूंगी | विस्तार से और अच्छे से जानने के लिए आप हमारे इस लेख को ध्यान से व अंत तक पढ़े।

Paramparagat Krishi Vikas Yojana 2021

PKVY को Soil Health के तहत शुरू किया गया है। PKVY के जरिये जैविक कृषि के लिए किसानो की उत्साहित किया जाता है। इस योजना के लिए भारत सरकार द्वारा आर्थिक मदद दी गयी है। परम्परागत कृषि विकास योजना के जरिये Traditional Knowledge And Modern Science के जरिये जैविक कृषि के स्थायी Model को विकसित करने जा रहे है। PKVY का मुख्य उद्देश्य मिट्टी की उर्वरता को फैलाना है। इस योजना में आपको आर्थिक रूप से पूरी सहयता की जायेगी इस योजना को सन 2015-16 में रसायनिक मुक्त जैविक कृषि को
Cluster Mode में फैलाने के लिए शुरू किया गया था।

परम्परागत कृषि विकास योजना के तहत आर्थिक सहायता

PKVY के जरिये CLUSTER निर्माण ,Capacity Building , अदनाो के लिए उत्साहन Value Addition,और विपरण के लिए 50000 रूपये Per Hectare 3 सालो के लिए आर्थिक मदद दी जायेगी। इसमें 31000 रूपये Per Hectare 3 साल जैविक पर्दार्थो जैसे की जैविक की उर्वरको ,कीटनाशी ,बीजो इत्यादि को खरीदने के लिए दिया जाता है। इसके अतिरिक्त Value Addition,और विपरण के लिए 8800 रूपये Per Hectare 3 सालो के लिए दी जाती है।

इस योजना के जरिये ( Paramparagat Krishi Vikas Yojana) गुजरे हुए 4 सालो में1197 करोड़ रूपये की धनराशि का खर्चा किया जा चूका है। इस योजना के जरिये CLUSTER निर्माण और CAPACITY Building के लिए भारत सरकार द्वारा 3000 रूपये Per Hectare 3 सालो के लिए आर्थिक मदद दी जायेगी। जिसमें Exposure View और field personnel के प्रशिक्षण मिला है। यह धनराशि किसानों के BANK ACCOUNT में Direct Benefit Transfer के जरिये से दाल दी जाती है।

Check this also:- मुर्गी पालन का व्यापार बिजनेस कैसे शुरू करें

Paramparagat Krishi Vikas Yojana 2021 Key Highlights


Scheme Name
PARMPRAGAT KRISHI VIKAAS YOJANA
किसने शुरू कीभारत सरकार
लाभार्थीकिसान
उद्देश्यजैविक खेती को बढ़ावा देने के लिए आर्थिक सहायता प्रदान करना।
OFFICIAL WEBSITEयहां क्लिक करें
YEAR2021
आवेदन का प्रकारONLINE/OFFLINE
वित्तीय सहायता₹50000

परम्परागत कृषि विकास योजना का उद्देश्य

अब हम बात करेंगे PKVY के उद्देश्य की तो दोस्तों पक्वी का मुख्य उद्देश्य किसानो को जैविक कृषि खेती करने के लिए उत्साहित करना है।
PKVY के तहत किसानो को जैविक कृषि करने के लिए आर्थिक मदद दी जायेगी। PKVY मिट्टी की गुणवत्ता को फैलाने में बहुत ज्यादा फायनदेमन्द होगी। इसके अतिरिक्त परम्परागत खेती विकास योजना के जरिये से Chemical-free और पौष्टिक आहार उपज हों सकेगा।

क्योंकि जैविक कृषि में कम-कम कीटनाशी का प्रयोग किया जाता है। PKVY (परम्परागत कृषि विकास योजना )भारत देश के लोगो की सेहत में सुधार करने के लिए भी प्रयोग होगा परम्परागत कृषि विकास योजना को जैविक खेती को CLUSTER MODE में फैलाने के उद्देश्य से भी शुरू किया गया है।

 Paramparagat Krishi Vikas Yojana के लाभ

  •  परम्परागत कृषि विकास योजना को भारत सरकार के द्वारा शुरू किया गया।
  • परम्परागत कृषि विकास योजना को Soil Health के तहत शुरू किया गया है।
  • परम्परागत कृषि विकास योजना के जरिये किसानो को जैविक कृषि करने के लिए उत्साहित किया जाता है।
  • भारत सरकार किसानो को जैविक कृषि के लिए उत्साहित करने के लिए आर्थिक तौर पर मदद भी की जा रही है।
  • परम्परागत कृषि विकास योजना Knowledge and Modern Development को विकसित करने में सहयाता करेंगी।
  • परम्परागत कृषि विकास योजना के जरिये से मिट्टी की उर्वरता को भी फैलाया जाएगा
  • PKVY 2021 के माध्यम से क्लस्टर निर्माण, क्षमता निर्माण, आदनों के लिए प्रोत्साहन, मूल्यवर्धन और विपरण के लिए आर्थिक रूप से मदद दी जाएगी।
  • इस योजना को सन 2015-16 में रसायनिक मुक्त जैविक कृषि को Cluster Mode में फैलाने के लिए शुरू किया गया था।
  • परम्परागत कृषि विकास योजना के तहत सरकार द्वारा जैविक कृषि के लिए 50000 रुपये Per Hectare 3 सालो के लिए आर्थिक रूप से मदद दी जायेगी।
  • इस धनराशि में से 31000 Per Hectare की धनराशि जैविक उर्वरको ,कीटनाशी ,बीजो इत्यादि के लिए दी जायेगी
  • इसके अतिरिक्त Value Addition,और विपरण के लिए 8800 रूपये Per Hectare 3 सालो के लिए दी जाती है।
  • इस योजना के जरिये CLUSTER निर्माण और CAPACITY Building के लिए भारत सरकार द्वारा 3000 रूपये Per Hectare 3 सालो के लिए आर्थिक मदद दी जायेगी। जिसमें Exposure View और field personnel के प्रशिक्षण मिला है।
  • गुजरे हुए 4 सालो में 1197 करोड़ रूपये की धनराशि का खर्चा किया जा चूका है।
  • यह धनराशि किसानों के BANK ACCOUNT में Direct Benefit Transfer के जरिये से दाल दी जाती है।

पिछले 4 वर्षों में प्रदान की गई वित्तीय सहायता

YEAR Budget Estimate (crore)Revised Estimate (crore)Release(crore)
2017-18350250203.46
2018-19360335.91329.46
2019-20325299.36283.67
2020-21500350381.05
कुल15351235.271197.64

परम्परागत कृषि विकास योजना स्टेटिस्टिक्स

सक्रिय क्षेत्रीय परिषद334
कुल समूह26007
स्वीकृत समूह26007
कुल किसान924450
स्वीकृत किसान910476
स्वीकृत नहीं किसान13974
कुल प्रमाणपत्र2141473
स्वीकृत प्रमाण पत्र939466
प्रमाणपत्र स्वीकृत नहीं1202007
जैविक खेती के लिए प्रस्तावित क्षेत्र551112.279075419 Hectar

Paramparagat Krishi Vikas Yojana (PKVY) की पात्रता

  • APPLY करने वाला व्यक्ति भारत का मूल निवासी होना जरूरी है ।
  • परम्परागत कृषि विकास योजना के तहत APPLY करने वाला व्यक्ति किसान होना चाहिए।
  • APPLY करने वाले व्यक्ति की उम्र 18 वर्ष से अधिक होनी चाहिए।

Important Documents for Application

  • आधार कार्ड
  • निवास प्रमाण पत्र
  • आय प्रमाण पत्र
  • आयु प्रमाण पत्र
  • राशन कार्ड
  • मोबाइल नंबर
  • PASSPORT SAIZE PHOTOGRAPH

परम्परागत कृषि विकास योजना के तहत APPLY करने का PROCESS

STEP-1: सबसे पहले आपको परम्परागत कृषि विकास योजना की OFFICIAL WEBSITE पर जाना होगा।

 Paramparagat Krishi Vikas Yojana


STEP-2: फिर आपके सामने HOME PAGE खुल कर आएगा।
STEP-3: अब आगे HOME PAGE पर आपको APPLY NOW के OPTION पर CLICK करना होगा।
STEP-4: इसके बाद आपके सामने Application letter खुलकर आएगा।
STEP-5: अब आपको Application letter में पूछी गई सारी महत्वपूर्ण जानकारी जैसे कि आपका NAME, MOBAIL NUMBER , E-MAIL ID इत्यादि डालना होगा।
STEP-6: इसके बाद आपको आपको सारे Important Documents को UPLOAD करना होगा।
STEP-7: फिर आपको सबमिट के OPTION पर CLICK करना होगा।
STEP-8: इस तरह आप परम्परागत कृषि विकास योजना के तहत APPLY कर पाएंगे।

PORTAL पर LOGIN करने का PROCESS

STEP-1: सर्वप्रथम आपको परम्परागत कृषि विकास योजना की OFFICIAL WEBSITE पर जाना होगा।

 Paramparagat Krishi Vikas Yojana
STEP-2:फिर आपके सामने HOME PAGE खुल कर आएगा।
STEP-3:इसके बाद आपको LOGIN के OPTION पर CLICK करना होगा।
STEP-4:अब आपके सामने Dialog Boxes खुल कर आएगा।
STEP-5:आपको इस Dialog Boxes में अपना USER NAME,PASSWORD तथा Captcha CODE डालना होगा।
STEP-6:इसके बाद आपको LOGIN के OPTION पर CLICK करना होगा।
STEP-7:इस तरह आप पोर्टल पर LOGIN कर पाएंगे।

Contact Details देखने का PROCESS

STEP-1: सबसे पहले आपको परम्परागत कृषि विकास योजना की OFFICIAL WEBSITE पर जाना होगा।
STEP-2: फिर आपके सामने HOME PAGE खुल कर आएगा।
STEP-3:अब आगे HOME PAGE पर आपको CONTACT US के OPTION पर CLICK करना होगा।

Contact Details देखने का PROCESS


STEP-4:इसके बाद आपके सामने एक NEW PAGE खोलकर आएगा।
STEP-5:इस PAGE पर आप CONTACT DETAILS देख सकते हैं।

यह सब कुछ आज आपने इस लेख के जरिये जाना है। उम्मीद है यह लेख आपके लिए लाभदायक रहा होगा। अगर आपको इस लेख में कुछ समझ नहीं आया हो तो आप कमेंट करके पूछ सकते है। हमारे इस लेख को अपने दोस्तों,रिश्तेदारों,इत्यादि तक शेयर करना न भूले। मैं खुशबू देवतवाल आपका तहे दिल से शुक्रिया करती हूँ| कि आपने हमारे लेख को पूरा पढ़ा । और आपने अपना कीमती समय इसे पढ़ने में लगाया। एक बार फिर से दिल से धन्यावद !

Paramparagat Krishi Vikas Yojana क्या है ?

PKVY को Soil Health के तहत शुरू किया गया है। PKVY के जरिये जैविक कृषि के लिए किसानो की उत्साहित किया जाता है। इस योजना के लिए भारत सरकार द्वारा आर्थिक मदद दी गयी है। परम्परागत कृषि विकास योजना के जरिये Traditional Knowledge And Modern Science के जरिये जैविक कृषि के स्थायी Model को विकसित करने जा रहे है। PKVY का मुख्य उद्देश्य मिट्टी की उर्वरता को फैलाना है। इस योजना में आपको आर्थिक रूप से पूरी सहयता की जायेगी इस योजना को सन 2015-16 में रसायनिक मुक्त जैविक कृषि को
Cluster Mode में फैलाने के लिए शुरू किया गया था।

परम्परागत कृषि विकास योजना का उद्देश्य क्या है ?

अब हम बात करेंगे PKVY के उद्देश्य की तो दोस्तों पक्वी का मुख्य उद्देश्य किसानो को जैविक कृषि खेती करने के लिए उत्साहित करना है।
PKVY के तहत किसानो को जैविक कृषि करने के लिए आर्थिक मदद दी जायेगी। PKVY मिट्टी की गुणवत्ता को फैलाने में बहुत ज्यादा फायनदेमन्द होगी। इसके अतिरिक्त परम्परागत खेती विकास योजना के जरिये से Chemical-free और पौष्टिक आहार उपज हों सकेगा।

 Paramparagat Krishi Vikas Yojana के लाभ बताईये ?

 परम्परागत कृषि विकास योजना को भारत सरकार के द्वारा शुरू किया गया।
परम्परागत कृषि विकास योजना को Soil Health के तहत शुरू किया गया है।
परम्परागत कृषि विकास योजना के जरिये किसानो को जैविक कृषि करने के लिए उत्साहित किया जाता है।
भारत सरकार किसानो को जैविक कृषि के लिए उत्साहित करने के लिए आर्थिक तौर पर मदद भी की जा रही है। अधिक जानने के लिए ऊपर दिए गए हमारे लेख को अच्छे से पढ़े।

आवेदन के लिए महत्वपूर्ण दस्तावेज क्या-क्या होंगे ?

आधार कार्ड
निवास प्रमाण पत्र
आय प्रमाण पत्र
आयु प्रमाण पत्र
राशन कार्ड
मोबाइल नंबर
PASSPORT SAIZE PHOTOGRAPH

Paramparagat Krishi Vikas Yojana (PKVY) की पात्रता बताईये ?

APPLY करने वाला व्यक्ति भारत का मूल निवासी होना जरूरी है ।
परम्परागत कृषि विकास योजना के तहत APPLY करने वाला व्यक्ति किसान होना चाहिए।
APPLY करने वाले व्यक्ति की उम्र 18 वर्ष से अधिक होनी चाहिए।