मेरा पानी मेरी विरासत योजना, Mera Pani Meri Virasat Yojana 2021

मेरा पानी मेरी विरासत योजना 2021 | मेरा पानी मेरी विरासत योजना | हरियाणा: मेरा पानी मेरी विरासत योजना | Mera Pani Meri virasat Yojana 2021 | Mera Pani Meri virasat Scheme 2021 | Mera Pani Meri virasat Yojana | Mera Pani Meri virasat Scheme

Mera Pani Meri Virasat Yojana
मेरा पानी मेरी विरासत योजना, Mera Pani Meri Virasat Yojana 2021 4

Latest Updates (मेरा पानी-मेरी विरासत योजना का लाभ लेने के लिए 25 तक होगा पंजीकरण)

सरकार ने पानी रूपी विरासत को बचाने के मेरा पानी मेरी विरासत योजना शुरु की है जिसके तहत जो किसान धान के स्थान पर उपरोक्त फसलें उगाता है तो उसको सात हजार रुपये प्रति एकड़ की दर से वित्तीय सहायता प्रदान की जाएगी। 

मेरा पानी मेरी विरासत योजना/ Mera Pani Meri Virasat Yojana 2021

नमस्कार दोस्तों आज हम आपके लिए नई जानकारी लेकर आये है| आज हम को आपको बतायेंगे की हरियाणा राज्य की सरकार कौन -कौन सी नई योजना शुरू कर रही है| किसानो की सहायता करने हेतु। आज हम आपको मेरा पानी मेरी विरासत योजना के बार में सम्पूर्ण जानकारी देंगे और साथ ही ये भी बताएंगे की इस योजना के क्या क्या विशेषताए और लाभ है|इस योजना का लाभ उठाने के लिए सभी इच्छुक लाभार्थी मेरा पानी मेरी विरासत योजना की ऑफिसियल वेबसाइट पर जाकर आवेदन कर सकते है। 

हरियाणा के मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल खट्टर जी राज्य के किसानो के लिए एक नयी योजना शुरू करने जा रहे है इस योजना का नाम है – मेरा पानी मेरी विरासत। मेरा पानी मेरी विरासत योजना के तहत हरियाणा राज्य के डार्क जोन में आने वाले क्षेत्रों में धान की खेती को छोड़कर धान की जगह दूसरी फसलों की बुआई करने वाले कृषको को राज्य सरकार 7 हजार रूपये प्रति एकड़ के लिए प्रोत्साहन राशि के रूप के वितरित करेगी।pm jal yojana

मेरा पानी मेरी विरासत योजना के तहत प्रथम चरण में हरियाणा राज्य के 19 ब्लॉक को एकीकृत किया जायेगा। वह ब्लॉक जिनके भू-जल की गहराई 40 मीटर से अधिक हो। सभी 19 ब्लॉक में से इस 8 ब्लॉक में धान की फसल अधिक उगाई जाती है इनमे सबसे प्रमुख ब्लॉक है – कैथल के सीवन और गुहला, सिरसा, फतेहबाद में रतिया और कुरुक्षेत्र में शाहाबाद , इस्माइलाबाद, पिपली, और बबैन भी शामिल किये गए है।

मेरा पानी मेरी विरासत योजना के तहत राज्य के उन क्षेत्रों को भी शामिल किया गया है जहा ट्यूबवेल 50 हॉर्स पावर से अधिक क्षमता वाले इस्तेमाल किये जा रहे है। राज्य में किसान को सरकार धान की जगह अन्य फैसले जैसे अरहर, मूंग, तिल, उड़द, कपास, मक्का, सब्जियों आदि की खेती करने के लिए प्रोत्साहित करने के लिए इस योजना की शुरुआत की है। राज्य सरकार ने कहा है की उन जमीनों पर धान की खेती करने की अनुमति नहीं दी जाएगी जहां पानी की गहराई 35 मीटर से कम है।

One Nation One Ration Card     PM Vaya Vandana Yojana

मेरा पानी मेरी विरासत योजना 2021 उद्देश्य / Mera Pani Meri Virasat Yojana aim 

राज्य में वर्ष 2021 में पानी की कमी के कारण किसान धान की खेती नहीं कर पा रहे है इस समस्या को मद्देनज़र रखते हुए राज्य सरकार ने मेरा पानी मेरी विरासत शुरू की है। इस योजना के तहत राज्य सरकार ने किसानो से अनुरोध किया है की वह धान की खेती के बजाय अन्य फसलों की खेती करे क्योकि धान की खेती में पानी की अधिक आवश्यकता होती है बजाय अन्य फसलों के। राज्य सरकार अन्य फसलों को बुआई के लिए मेरा पानी मेरी विरासत योजना के अंतर्गत 7 हजार रूपये की राशि आर्थिक सहायता के रूप में किसानो को प्रदान करेगी। मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने इस योजना की शुरुआत करके जल संरक्षण को बढ़ावा देने की कोशिश की।

मेरा पानी मेरी विरासत योजना की विशेषताएं व लाभ /Mera Pani Meri Virasat Yojana Key Features

इस योजना का मुख्या उद्देश्य जल संरक्षण है ताकि आने वाली पीढ़ियों को विरासत के रूप में खेती करने के लिए भूमि और जल दे सके।

सरकार उन किसानो को प्रोत्साहित करने के सहायता राशि उपलब्ध करवाएगी जो धान की फसल न ऊगा कर दूसरी फसलों की खेती करे।

राज्य सरकार प्रत्येक किसान को प्रति एकड़ 7000 हजार रूपये की आर्थिक सहायता राशि प्रदान करेगी जो किसान धान की खेती छोड़ कर अन्य फैसले उगायेगा।

हरियाणा सरकार ने इस योजना में ऐलान किया है कि केवल उन्ही पंचायती क्षेत्रों में धान कि बुवाई की जाएगी जिन क्षेत्रों में 35 मीटर से अधिक गहराई हो भू जल की।

अगर कोई भी किसान ऐसे ब्लॉक्स में धान की खेती छोड़ कर अन्य फैसले उगता है तो वह पहले से इसकी सूचना ग्राम पंचायत में देकर सहायता राशि प्राप्त करने के लिए आवेदन कर सकता है।

जैसा की हम सब जानते है की धान की खेती में पानी की लागत अधिक होती है जबकि मक्का, अरहर, ज्वार, कपास, बाजरा, उड़द, तिल, मूंग आधी की खेती में पानी की लागत कम होती है। तो हम धान की फसल की जगह अन्य कम पानी में उगने वाली फसलें ऊगा कर पानी की बचत कर सकते है

सरकार मक्का की बुआई के लिए राज्य में आवश्यक उपकरणों उपलब्ध करने की व्यवस्था करेग।

जो किसान धाम की खेती छोड़ कर अन्य फसलें उगाने के लिए ड्रिप सिस्टम खेतो में लगाना चाहते है उन्हें राज्य सरकार 80 % तक सहायता राशि अनुदान करेगी

Form more details visit the official website :http://117.240.196.237/