Atal Pension Yojana in Hindi: APY के लाभ, Yojana Chart

Atal Pension Yojana in Hindi

Atal Pension Yojana in Hindi:- अटल पेंशन योजना जन धन योजना के सफल होने के बाद शुरू की गई है। अटल पेंशन योजना फरवरी 2015 वित्तमंत्री अरुण जेटली द्वारा शुरू की गई थी । इस अटल पेंशन योजना online को शुरू करने के दौरान वित्तमंत्री अरुण जेटली ने कहा था कि आज जो देश का हाल है उसे देख कर बड़ा दुख होता है। उन्होंने कहा कि जब हमारी पीढ़ी अपने बुढ़े दौर में जाएगी तो उनके पास घर चलाने का कोई साधन नहीं होगा।वित्तमंत्री अरुण जेटली ने बजट भाषण में कहा था- “दुखद है कि जब हमारी युवा पीढ़ी बूढ़ी होगी उसके पास भी कोई पेंशन नहीं होगी।

Latest Updates

हाल ही में वित्त मंत्रालय द्वारा जारी एक रिपोर्ट के अनुसार, NPS और अटल पेंशन योजना के तहत ग्राहकों की कुल संख्या 4.28 करोड़ को पार कर गई है और Asset Under Management ( AUM ) 21 मई को बढ़कर 603,667.02 करोड़ रुपये हो गई है।

अटल पेंशन योजना में हुए बदलाव

  • सरकार ने अब अपग्रेड / डाउनग्रेड की सुविधा बंद क्र दी गयी है। अब पेंशनर साल में केवल एक बार चुनी गयी पेंशन राशि को अपग्रेड या डाउनग्रेड पाएंगे।
  • इस योजना के लाभार्थी PRAN कार्ड की कॉपी eNPS वेबसाइट पर जाकर प्राप्त कर सकते है।
  • अब सभी अटल पेंशन योजना के लाभार्थियों की सूची अटल पेंशन योजना ट्रांसक्शन वेबसाइट पर मौजूद होगी।
  • APY सेक्शन के तहत लाभार्थी www.npscra.nsdl.co.in वेबसाइट पर जाकर ePRAN डाउनलोड कर सकते है।

Atal Pension Yojana In Hindi

प्रधानमंत्री जन धन योजना की सफलता से प्रोत्साहित होकर, मैं सभी भारतीयों के लिए सार्वभौमिक सामाजिक सुरक्षा प्रणाली को सृजन करने का प्रस्ताव करता हूं। इससे सुनिश्चित होगा कि किसी भी भारतीय नागरिक को बीमारी, दुर्घटना या वृद्धावस्था में अभाव की चिंता नहीं करनी पड़ेगी।” इसे आदर्श बनाते हुए राष्ट्रीय पेंशन योजना के तौर पर Atal Pension Yojana in Hindi (अटल पेंशन योजना) एक जून 2015 से प्रभावी करि गयी । इस योजना का उद्देश्य असंगठित क्षेत्र के लोगों को पेंशन फायदों के दायरे में लाना है। इससे उन्हें हर महीने न्यूनतम भागीदारी के साथ सामाजिक सुरक्षा का लाभ उठाने की अनुमति मिलेगी।

Click Here–>>> प्रधानमंत्री किसान पेंशन योजना

अटल पेंशन योजना

अटल पेंशन योजना का फायदा आप 60 साल की उम्र के बाद ही उठा सकते हैं। इस योजना में 1,000, 2000, 3000, 4000 या 5000 रुपये की स्थायी पेंशन योजना को चुनना होता है। Atal Pension Yojana (अटल पेंशन योजना) का लाभ अंशदान और उम्र के आधार पर निर्भर होता है । जिसके साथ ही यदि पति इस सुविधा का फायदा ले रहा है और उनके बाद भी उनकी पत्नी इसका लाभ ले सकती है। जिसमे बाकि नॉमिनी के रुपये भी दे दिए जाएंगे।निजी क्षेत्र में या ऐसे पेशों से जुड़े लोग जिन्हें पेंशन लाभ नहीं मिलते, वे भी इस योजना में पेंशन के लिए आवेदन दे सकते हैं। वे 60 वर्ष की आयु पूरी करने पर 1,000 या 2,000 या 3,000 या 4,000 या 5,000 रुपए की स्थायी पेंशन का विकल्प चुन सकते हैं। अंशदान की राशि और व्यक्ति की उम्र के आधार पर ही पेंशन तय होगी।

अंशदाता की मौत होने पर, अंशदाता का जीवनसाथी पेंशन का दावा कर सकता है और जीवनसाथी की मौत के बाद नॉमिनी को अर्जित राशि लौटा दी जाएगी। अटल पेंशन योजना का फायदा हर उस शख्स के लिए है जो वक्त के साथ बूढ़ा हो रहा है। और उसका कमाई का साधन कम हो रहे हैं। इस योजना को यूं तो हर कोई इस्तेमाल कर सकता है। मगर सबसे अच्छी बात ये है कि इस योजना का फायदा उन लोगों को भी होगा जो गरीब हैं। मोदी सरकार ने हर साल की हर पेंशन के 50% या फिर 2000 रुपए देने की योजना बनाई है। मगर इसका फायदा वो लोग उठा सकते हैं जो टैक्स नहीं दे पाते या फिर जिन लोगों ने इस योजना के लिए 31 दिसंबर 2015 से पहले आवेदन दिया है।

अटल पेंशन योजना पेंशन की आवश्यकता

  • एक पेंशन लोगों को एक मासिक आय प्रदान करता है जब वे कमाई नही कर पा रहे होते हैं।
  • उम्र के साथ संभावित कमाई आय में कमी
  • बड़े परिवार का विस्तार – कमाउ सदस्य का पलायन
  • जीवन यापन की लागत में वृद्धि
  • दीर्घायु में वृद्धि
  • निश्चित मासिक आय बुढ़ापे में सम्मानजनक जीवन सुनिश्चित करता है।
  • योजना का लाभ लेने वाले की उम्र 18 से 40 साल के बीच होनी चाहिए।
  • उसका एक बचत बैंक खाता डाकघर/बचत बैंक में होना चाहिए। 

अटल पेंशन योजना APY के लाभ

अटल पेंशन योजना के तहत न्यूनतम पेंशन की इस अर्थ में सरकार द्वारा की गारंटी होगी कि यदि पेंशन योगदान पर वास्तविक रिटर्न अंशदान की अवधि के दौरान कम हुआ तो इस तरह की कमी को सरकार द्वारा वित्त पोषित किया जाएगा। अटल पेंशन योजना form download दूसरी ओर, यदि पेंशन योगदान पर वास्तविक रिटर्न न्यूनतम गारंटी पेंशन के लिए योगदान की अवधि में रिटर्न की तुलना में अधिक हैं। तो इस तरह के अतिरिक्त लाभ ग्राहक के खाते में जमा किया जायेगा जिससे ग्राहकों को बढ़ा हुआ योजना का लाभ मिलेगा।

अटल पेंशन स्कीम में सरकार का कुल योगदान का 50% या 1000 रुपये प्रति साल जो भी कम हो का सह-योगदान प्रत्येक पात्र ग्राहक को करेगी जो इस योजना में 1 जून 2015 से 31 मार्च 2016 के बीच शामिल होते हैं। और जो किसी भी अन्य सामाजिक सुरक्षा योजना के एक लाभार्थी नहीं है एवं आयकर दाता नहीं है। सरकार के सह-योगदान वित्तीय वर्ष 2015-16 से 2019-20 तक 5 साल के लिए दिया जाएगा।

वर्तमान में, नेशनल पेंशन सिस्टम (NPS) के तहत ग्राहक योगदान एवं उसपर निवेश रिटर्न के लिए के लिए कर लाभ पाने के पात्र है। इसके अलावा, NPS से बाहर निकलने पर वार्षिकी की खरीद मूल्य पर भी कर नहीं लगाया जाता है। और केवल ग्राहकों की पेंशन आय सामान्य आय का हिस्सा मानी जाती है। उसपर ग्राहक के लिए लागू उचित सीमांत दर लगाया जाता है। इसी तरह के कर उपचारAtal Pension Yojana Hindi (APY) के ग्राहकों के लिए लागू है।

अटल पेंशन योजना APY से निकासी प्रक्रिया

60 वर्ष की आयु प्राप्त करने पर :- 60 वर्ष की समाप्ति पर ग्राहक संबंधित बैंक को गारंटी न्यूनतम मासिक पेंशन या अधिक मासिक पेंशन निकासी के लिए, अगर निवेश रिटर्नAtal Pension Yojana Hindi(APY) में एम्बेडेड गारंटीड रिटर्न की तुलना में अधिक हैं। मासिक पेंशन की समान राशि ग्राहक की मृत्यु पर पति या पत्नी (डिफ़ॉल्ट नामित) को देय है। नामांकित ग्राहक और पति या पत्नी दोनों की मौत पर 60 साल की उम्र तक संचित पेंशन धन की वापसी के लिए पात्र होंगे।

60 साल की उम्र के बाद किसी भी कारण की वजह से ग्राहक की मृत्यु के मामले में :- वही पेंशन पति या पत्नी को देय है और दोनों की मृत्यु पर (ग्राहक और पति या पत्नी) 60 साल की उम्र तक संचित पेंशन धन नामांकित को वापस किया जायेगा।

60 साल की उम्र से पहले बाहर निकलना :- यदि एक ग्राहक, जिसने APY के तहत सरकार के सह-योगदान का लाभ उठाया है, भविष्य में स्वेच्छा से APY से बाहर निकलने के लिए चुनता है तो उसे केवल APY में उनके द्वारा किया गया योगदान उनके योगदान पर अर्जित शुद्ध वास्तविक अर्जित आय के साथ-साथ खाते के रखरखाव शुल्क घटाने के बाद वापस किया जाएगा। सरकार के सह-योगदान है, और सरकार के सह-योगदान पर अर्जित आय, इस तरह के ग्राहकों के लिए वापस नहीं किया जाएगा।

60 साल की उम्र से पहले ग्राहक की मृत्यु :- 60 वर्ष से पहले ग्राहक की मृत्यु के मामले में, Atal Pension Yojana Hindi (APY) खाते में शेष अवधि के लिए जब तक मूल ग्राहक 60 वर्ष की आयु प्राप्त कर लेता, निहित योगदान अपने नाम में जारी रखने का विकल्प पति या पत्नी के पास उपलब्ध होगा। ग्राहक का पति या पत्नी मृत्यु पर वही पेंशन राशि प्राप्त करने का हकदार होगा जो ग्राहक को देय था।
या, APY के तहत पूरे संचित कोष पति या पत्नी/नामिती को लौटा दी जाएगी।

अटल पेंशन योजना अन्य महत्वपूर्ण तथ्य (Atal Pension Yojana in Hindi)

यह APY खाते में नामांकन विवरण प्रदान करना अनिवार्य है। यदि ग्राहक विवाहित है तो पति या पत्नी डिफ़ॉल्ट नामित होंगें। अविवाहित ग्राहक नामित के रूप में किसी भी अन्य व्यक्ति को मनोनीत कर सकते हैं पर शादी के बाद उन्हें पति या पत्नी की जानकारी प्रदान करनी होगी। पति या पत्नी और नामित के आधार की जानकारी प्रदान की जा सकती है।

एक ग्राहक केवल एक APY खाता खोल सकते हैं और यह अद्वितीय है। एकाधिक खातों की अनुमति नहीं है।
एक ग्राहक एक वर्ष के दौरान एक बार पेंशन राशि को बढ़ाने या घटाने के लिए विकल्प चुन सकते हैं।

APY ग्राहकों को PRAAN की सक्रियता, खाते में शेष राशि, योगदान क्रेडिट आदि के बारे में SMS अलर्ट के माध्यम से समय-समय पर जानकारी सूचित कर दी जायेगी। ग्राहक को साल में एक बार खाते का भौतिक विवरण भी दिया जाएगा।
APY का सालाना भौतिक विवरण भी ग्राहकों के लिए प्रदान किया जाएगा।
योगदान आवास/स्थान के परिवर्तन के मामले में भी ऑटो डेबिट के माध्यम से बिना रूकावट के प्रेषित किया जा सकता है।

योजना केवल भारतीय नागरिक के लिए ही है।
ग्राहक अप्रैल के महीने के दौरान एक वर्ष में एक बार ऑटो डेबिट सुविधा के मोड (मासिक/तिमाही/छमाही) को बदल सकते हैं।

अटल पेंशन योजना ऑनलाइन अप्लाई (Atal Pension Yojana in Hindi)

 
Step:-1 अटल पेंशन योजना ऑनलाइन फॉर्म अधिक जानकारी के लिए इस वेबसाइट पर क्लिक करें http://www.dif.mp.gov.in/apy.htm
 

Yojana Chart

atal-pension-yojana-chart

Atal pension yojana in Hindi से जुडी सभी जानकारिया आज हमने आपको बताई। अगर Atal pension yojana in Hindi से जुडी कोई भी चीज़ आपको पूछनी हो तो comment में बताये। पोस्ट अच्छी लगी हो तो अपने दोस्तों के साथ शेयर करना न भूले। धन्यवाद पोस्ट पढ़ने के लिए।