Jharkhand Aajivika Samvardhan Hunar Abhiyan 2021

Jharkhand Aajivika Samvardhan Hunar Abhiyan । Jharkhand Aajivika Samvardhan Hunar Abhiyan 2021।Aajivika Samvardhan Hunar Abhiyan। आजीविका संवर्धन हुनर अभियान। झारखंड आजीविका संवर्धन हुनर अभियान। ASHA Yojana। Aajivika Samvardhan Hunar Yojana। Aajivika Samvardhan Hunar Mission। झारखंड आजीविका संवर्धन हुनर योजना

Jharkhand Aajivika Samvardhan Hunar Abhiyan  Highlights

Name of Scheme Jharkhand Aajivika Samvardhan Hunar Abhiyan 
Launched ByChief Minister of Jharkhand Mr. Hemant Soren
Launched on29 September 2020
BeneficiariesWomen’s of the state
AimProvide employment to the women
Application Procedure Not yet Started
Official Website

Jharkhand Aajivika Samvardhan Hunar Abhiyan 2021

झारखंड के मुख्यमंत्री जी महिलाओ के सशक्तिकरण के लिए नई नई योजनाओं की शुरुआत कर रहे हैं। झारखंड की राज्य सरकार ने महिलाओं के लिए ऐसी ही नयी योजना की शुरुआत की है जिसका नाम है आजीविका संवर्धन हुनर अभियान।आज हम आपके साथ झारखंड आजीविका संवर्धन हुनर अभियान से जुड़ी सभी जानकारियों पर चर्चा करेंगे । और साथ ही में इस योजना की पात्रता, उद्देश्य, लाभ, आवेदन प्रक्रिया आदि पर चर्चा करेंगे।

Aajivika Samvardhan Hunar Abhiyan। आजीविका संवर्धन हुनर अभियान

झारखंड के मुख्यमंत्री श्री हेमंत सोरेन जी ने राज्य की महिलाओ के सशक्तिकरण के लिए झारखंड आजीविका संवर्धन हुनर अभियान को शुरू किया गया है। झारखंड आजीविका संवर्धन हुनर अभियान के जरिये राज्य सरकार के द्वारा राज्य की महिलाओं को कृषि आधारित आजीविका, पशुपालन, वनोपज संग्रहण, उद्यमिता समेत स्थानीय संसाधनों से जुड़े स्वरोजगार के अवसर प्रदान किए जाएंगे। इस अभियान के जरिये राज्य सरकार के द्वारा झारखण्ड की 17 लाख ग्रामीण महिलाओं को लाभान्वित किया जाएगा।

झारखण्ड आजीविका संवर्धन हुनर अभियान के तहत राज्य सरकार ने 600 करोड़ रुपए का बजट निर्धारित किया है। झारखंड के मुख्यमंत्री जी के द्वारा स्वयं दुमका के मंडलों में 150 करोड़ रुपए राशि बांटे हैं। झारखण्ड आजीविका संवर्धन हुनर योजना का संचालन ग्रामीण विकास विभाग करेगा। उन्होंने ने यह भी कहा कि राज्य सरकार महिलाओ और युवाओ को रोजगार देने में पूरी तरह से सक्षम है। राज्य सरकार के द्वारा प्रतिदिन झारखंड के 650000 लोगों को रोजगार प्रदान किया जाता है।

Aajivika Samvardhan Hunar Abhiyan

राज्य में ऐसी बहुत सी महिलाएं है जो अपना घर का खर्च चलाने के लिए सड़क पर हड़िया दारु बेचती है । इस योजना की शुरुआत हड़िया दारु बेचने वाली महिलाओं के लिए ही की गयी है। मुख्यमंत्री श्री हेमंत सोरेन जी ने इस अवसर पर कहा कि महिलाएं हड़िया दारू बेचने का काम मजबूरी में करती है।इस योजना का लक्ष्य है की अब झारखण्ड कोई भी महिला सड़क पर हड़िया दारू नहीं बेचती हुई दिखाई दे । राज्य सरकार अब हरिया दारु बेचने वाली महिलाओं को आजीविका को पूरा करने के लिए झारखंड आजीविका संवर्धन हुनर अभियान से जोड़ेगी। झारखंड आजीविका संवर्धन हुनर अभियान के जरिये राज्य सरकार के द्वारा ग्रामीण महिलाओं को रोजगार तथा स्व रोजगार के अवसर प्रदान किए जाएंगे।

Palash Brand

पलाश ब्रांड झारखंड सरकार का एक ब्रांड है। राज्य सरकार पलाश ब्रांड को पुरे विश्व में पहचान देना चाहती है। पलाश ब्रांड को आगे ले जाने के लिए सरकार ने राज्य की महिलाओं को प्रोत्साहित किया है। इस अवसर पर मुख्यमंत्री श्री हेमंत सोरेन जी ने यह भी कहा है कि टाटा और अमूल की तरह पलाश ब्रांड भी बहुत आगे तक जाएगा ।

उन्होंने ने लिज्जत पापड़ तथा अमूल के बारे में यह भी बताया इनका उत्पादन महिला स्वयं सहायता समूह की सहायता से किया जाता है। राज्य सरकार पलाश ब्रांड को भी महिला एवं सहायता समूह की सहायता से किए गए उत्पादन के उत्पाद से आगे तरक्की की ओर ले जाना चाहती है। इस ब्रांड के जरिये झारखंड की महिलाओं का सशक्तिकरण होगा और आत्मनिर्भर बनेगी। पलाश ब्रांड के तहत अभी तक राज्य में सिर्फ खाने पीने की उत्पाद ही बनाए जाते हैं। भविष्य में राज्य सरकार इस ब्रांड के जूते, चप्पल, साड़ी आदि भी पलाश ब्रांड के नाम से पुरे विश्व में बेचे जाएंगे।

Aajivika Samvardhan Hunar Abhiyan Aim

झारखण्ड आजीविका संवर्धन हुनर अभियान का मुख्य उद्देश्य हड़िया दारु बेचने वाली महिलाओं को रोजगार तथा स्वरोजगार के अवसर उपलब्ध करवाना है। इस आजीविका संवर्धन हुनर अभियान के जरिये रोजगार प्राप्त कर अब राज्य की महिलाओं को अपनी आजीविका चलाने के लिए हड़िया दारु बेचने की जरुरत नहीं पड़ेगी। आजीविका संवर्धन हुनर योजना के जरिये महिलाओं का सशक्तिकरण किया जायेगा। और उनकी आर्थिक स्थिति में भी सुधार लाया जायेगा। इस योजना का मुख्य उद्देश्य महिलाओ को आत्मनिर्भर तथा सशक्त बनाना है। और साथ ही में हमारे देश के प्रधानमंत्री जी के “Make In India” के सपने को एक नई ऊचाई पर ले जाना है।

Aajivika Samvardhan Hunar Abhiyan Silent Features 

इस अभियान की शुरुआत झारखंड की हड़िया दारू बेचने वाली महिलाओं के लिए किया गया है।

झारखंड आजीविका संवर्धन हुनर योजना के अंतर्गत हड़िया दारु बेचने वाली महिलाओं को रोजगार तथा स्व रोजगार के अवसर राज्य सरकार के द्वारा प्रदान किए जाएंगे।

झारखंड आजीविका संवर्धन हुनर योजना से महिलाओं का सशक्तिकरण होगा।

झारखंड आजीविका संवर्धन हुनर योजना के जरिये राज्य की महिलाओं को कृषि आधारित आजीविका, पशुपालन, वनोपज संग्रहण, उद्यमिता समेत स्थानीय संसाधनों से जुड़े स्वरोजगार के अवसर उपलब्ध करवाए जायेंगे।

झारखंड आजीविका संवर्धन हुनर योजना के जरिये झारखंड राज्य के लगभग 17 लाख ग्रामीण परिवारों को लाभान्वित किया जाएगा।

झारखंड आजीविका संवर्धन हुनर योजना के अंतर्गत राज्य की की महिलाओं को अपनी आजीविका चलाने के लिए हड़िया दारु बेचने की आवश्यकता नहीं होगी।

इस योजना के अंतर्गत राज्य की महिलाओं को रोजगार तथा स्व रोजगार के अवसर भी मिलेंगे।

झारखंड आजीविका संवर्धन हुनर योजना का 600 करोड़ रुपए का बजट राज्य सरकार के द्वारा निर्धारित किया गया है।

इस योजना का संचालन ग्रामीण विकास विभाग करेगा ।

Aajivika Samvardhan Hunar Abhiyan Required Documents

आधार कार्ड
राशन कार्ड
निवास प्रमाण पत्र
मोबाइल नंबर
पासपोर्ट साइज फोटोग्राफ

Aajivika Samvardhan Hunar Abhiyan Application Procedure

जैसा की आप अभी जानते है झारखंड आजीविका संवर्धन हुनर योजना की शुरुआत राज्य सरकार के द्वारा 29 सितम्बर 2020 को की गयी है। राज्य के इच्छुक लाभार्थी जो इस के अंतर्गत आवेदन करना चाहते हैं तो आपको कुछ समय के लिए इंतज़ार करना होगा। झारखंड आजीविका संवर्धन हुनर योजना के लिए राज्य सरकार द्वारा केवल घोषणा की गई है। राज्य सरकार के द्वारा जल्दी ही इस योजना के लिए आवेदन प्रक्रिया शुरू कर दी जाएगी। और जैसे इस योजना के लिए आवेदन प्रक्रिया शुरू हो जाएगी हम आपको हमारे इस लेख के माध्यम से सूचित कर देंगे।

For More Details visit the official website of Jharkhand Government: https://www.jharkhand.gov.in

झारखंड आजीविका संवर्धन हुनर योजना क्या है ?

झारखंड के मुख्यमंत्री श्री हेमंत सोरेन जी ने राज्य की महिलाओ के सशक्तिकरण के लिए झारखंड आजीविका संवर्धन हुनर अभियान को शुरू किया गया है। झारखंड आजीविका संवर्धन हुनर अभियान के जरिये राज्य सरकार के द्वारा राज्य की महिलाओं को कृषि आधारित आजीविका, पशुपालन, वनोपज संग्रहण, उद्यमिता समेत स्थानीय संसाधनों से जुड़े स्वरोजगार के अवसर प्रदान किए जाएंगे।

झारखंड आजीविका संवर्धन हुनर योजना की शुरुआत कब की गयी है ?

झारखंड आजीविका संवर्धन हुनर योजना की शुरुआत राज्य सरकार के द्वारा 29 सितम्बर 2020 को की गयी है।

पलाश ब्रांड क्या है?

पलाश ब्रांड झारखंड सरकार का एक ब्रांड है। पलाश ब्रांड के तहत अभी तक राज्य में सिर्फ खाने पीने की उत्पाद ही बनाए जाते हैं। भविष्य में राज्य सरकार इस ब्रांड के जूते, चप्पल, साड़ी आदि भी पलाश ब्रांड के नाम से पुरे विश्व में बेचे जाएंगे।