हज यात्रा 2022: रजिस्ट्रेशन, ऑनलाइन आवेदन प्रक्रिया खर्चा, पूरी जानकारी

हज यात्रा– नमस्ते मित्रो, आज हम बात करेंगे हमारे नए लेख “हज यात्रा” के बारे में। जैसा कि हमे पता हैं की हज यात्रा मुस्लिम वर्ग के लोगो द्वारा सऊदी अरब में की जाती हैं। इस यात्रा का उद्देश्य क्या हैं, और यह क्यों की जाती हैं, यह सब हम आपको हमारे आज के लेख में बताएंगे। आप हमारे इस लेख के जरिये अंत तक बने रहे।

Contents

हज यात्रा

इस्लाम धर्म में हज यात्रा का विशेष महत्व हैं।  हज यात्रा मक्का एवं मदीना की यात्रा है जहां पर देश का प्रत्येक मुसलमान सब्सिडी प्राप्त करके इस पवित्र स्थान पर जाकर अपनी मन की मुराद पूरी कर सकता है | हर साल के अंतिम महीने ज़िल हिज्जाह में हज यात्रा की जाती हैं। इस्लाम धर्म में स्त्री और पुरुष दोनों को जीवनकाल में एक बार हज यात्रा का विधान हैं। यह इस्लाम में एकता और विश्वास का प्रतिक हैं। इसके लिए दुनिया भर के मुस्लिम सऊदी अरब पहुँचते हैं।
यंहा इबादत करने के भी नियम हैं, जिसे हर एक मुसलमान के लिए मानना जरुरी हैं। यह उसके लिए अपने धर्म के प्रति पालन करना हैं।

हज यात्रा- Overview

योजना का नाम हज यात्रा
शुरू की गई योजना  केंद्र सरकार द्वारा
लाभार्थी देश के मुसलमान नागरिक
सहायता राशि हज यात्रा के लिए सब्सिडी का प्रावधान
आवेदन प्रक्रियाऑनलाइन आवेदन
आवेदन की तिथि9 April 2022 to 22 April 2022
आधिकारिक वेबसाइटयहाँ देखे

ग्रीन केटेगरी और अजीजिया केटेगरी के लिए खर्चे का प्रावधान 

 हज यात्रियों को मिलने वाली सब्सिडी का सबसे बड़ा हिस्सा हवाई यात्रा पर खर्च किया जाता है। भारत सरकार का सिविल एविएशन मंत्रालय हज कमेटी ऑफ इंडिया के जरिए ये सब्सिडी मुहैया कराता है। ये पैसा हज यात्रियों के बजाय एयर इंडिया को सीधे दिया जाता है।

ग्रीन केटेगरी के लिए खर्चे

1.मक्का में रुकने पर खर्च 81,000 रुपए
2.मदीना में रुकने का खर्च9,000 रुपए
3.एयरलाइन की टिकट45,000 रुपए
4.अन्य खर्च 76,320 रुपए
5.कुल खर्च ग्रीन के लिए2,11,320 रुपए

अजीजिया केटेगरी के लिए खर्चे

1.मक्का में रुकने पर खर्च  47,340 रुपए
2.मदीना में रुकने का खर्च 9,000 रुपए
3.एयरलाइन की टिकट 45,000 रुपए
4.अन्य खर्च  76,320 रुपए
5.कुल खर्च अजीजिया के लिए 1,77,660 रुपए

हज यात्रा के लिए पात्रता मापदंड

  • हज यात्रा के लिए आयु सीमा कम से कम 18 वर्ष और अधिकतम 65 वर्ष हैं।
  • हज की यात्रा 36-42 दिन की होगी।
  • हज यात्रा केवल मुस्लिम धर्म के लोगो के लिए ही हैं।
  • गर्भवती महिला को हज यात्रा में जाने की अनुमति नहीं हैं।
  • जो कोई भी व्यक्ति शारीरिक रूप से स्वस्थ्य नहीं हैं उन्हें भी यात्रा में जाने के लिए मनाई हैं।
यह भी पढ़े: Mukhyamantri Tirtha Yatra Yojana

हज यात्रा

हज यात्रा के लिए आवश्यक दस्तावेज 

  • दो पासपोर्ट साइज फोटो
  • पहचान पत्र के रूप में आधार कार्ड अनिवार्य हैं।
  • बैंक खाता और एक कैंसिल चेक
  • जाति प्रमाण-पत्र
  • पासपोर्ट के अतिरिक्त उसकी फोटो कॉपी
  • कोरोना वैक्सीनशन सर्टिफिकेट

हज यात्रा के लिए अयोग्य व्यक्ति कौन-कौन है?

दोस्तों, हज यात्रा करने के लिए Haj Committee Of India ने कुछ नियम बनाये हुए हैं की कौन व्यक्ति हज यात्रा कर सकता हैं और कौन व्यक्ति हज यात्रा नहीं कर सकता हैं। आपको निचे कुछ नियम बताये गया हैं जिनके अनुसार ये लोग हज यात्रा नहीं कर सकते हैं।

  • ऐसे व्यक्ति जिनकी उम्र 18 साल से कम हैं या जिनकी उम्र 65 साल से ज्यादा हो चुकी हैं, ये सभी व्यक्ति हज यात्रा के लिए अयोग्य हैं।
  • अगर आपके एक ऐसा पासपोर्ट हैं जिसे मशीन रीड नहीं कर सकती हैं तो आप हज यात्रा नहीं कर सकते हैं।
  • अगर कोई व्यक्ति एक बार हज यात्रा कर लेता हैं तो वो दोबारा हज यात्रा नहीं कर सकता हैं।
  • किसी भी व्यक्ति के पासपोर्ट के expire होने की तारीख कम से कम 2022 होनी चाहिए।
  • जो व्यक्ति किसी बीमारी से पीड़ित हैं जैसे- कैंसर, TB आदि वो व्यक्ति भी हज यात्रा नहीं कर सकता हैं।
  • ऐसे व्यक्ति जिनको अदालत ने विदेश जाने से मना कर रखा हैं वो भी हज यात्रा के लिए अयोग्य हैं।
  • अगर किसी व्यक्ति के आवेदन फॉर्म में कोई गलती पायी जाती हैं तो उसे भी हज यात्रा के लिए रोक लिया जाता हैं।
  • जिन भी व्यक्ति को कोरोना हैं उन पर भी पूरी तरह से पाबंदी हैं।

हज यात्रा के लिए ऑनलाइन आवेदन- How To Apply Online For Haj Yatra?

1. New User Signup

  • हज यात्रा में आवेदन करने के लिए आपको सबसे पहले हज यात्रा की आधिकारिक वेबसाइट पर जाना होगा।

हज यात्रा के लिए ऑनलाइन आवेदन 

  • होम पेज पर आपको Haj Form का ऑप्शन दिखेगा जिस पर क्लिक करने के बाद आपको “Apply” का ऑप्शन दिखेगा जिस पर आपको क्लिक करना हैं।

हज यात्रा

  • इसके बाद आपके सामने एक नया पेज ओपन होगा। जिसमे आपको “New User Registration” पर क्लिक करना होगा।

हज यात्रा

  • “New User Registration पर क्लिक करने के बाद
  • रजिस्ट्रेशन फॉर्म को ध्यान से भरें।
  • आवेदकों को अपना मोबाइल नंबर, ईमेल आईडी, पहला नाम और अंतिम नाम भरना होगा।
  • Strong Password चुनें और पासवर्ड Re Confirm करें।
  • Security कोड डाले।
  • अगर जानकारी सही है, तो चेक बॉक्स पर क्लिक करें।
  • “Submit Details” पर क्लिक करें।

हज यात्रा के लिए ऑनलाइन आवेदन 

  • Registration विवरण सफलतापूर्वक जमा करने पर, Registration फॉर्म में दिए गए मोबाइल नंबर पर एक सिस्टम जनरेटेड OTP भेजा जाएगा। ओटीपी नंबर दर्ज करके यूजर-आईडी Activate करें और ‘SUBMIT’ बटन पर क्लिक करें।

TTT

  • OTP सफलतापूर्वक जमा करने पर, स्क्रीन पर एक Confirmation Message दिखाई देगा।

हज यात्रा के लिए ऑनलाइन आवेदन 

हज यात्रा के लिए रजिस्ट्रेशन कैसे करे- How To Register For Haj Yatra?

  • ऑनलाइन Registration करने के लिए Registered मोबाइल नंबर और पासवर्ड दर्ज करें।

 Registered User Sign In- huj

  • साइन-इन करने के बाद निम्न स्क्रीन दिखाई देगी।
  • अब आपको “Application Category” पर क्लिक करना होगा।
  • इस बाद ड्रॉप डाउन से ” Number of Adults” सेलेक्ट करे और फिर “Next” बटन पर क्लिक करे।

Registered User Sign In- huj

  • आवेदक का विवरण (भारतीय अंतर्राष्ट्रीय पासपोर्ट के अनुसार), कोविड -19 टीकाकरण विवरण, व्यक्तिगत विवरण, वर्तमान आवासीय पता, नामांकित विवरण, बैंक खाता विवरण आदि भरें।
  • यह सभी विवरण भरना अनिवार्य हैं जिन पर * चिन्ह हैं।

Registered User Sign In- huj

  • सभी विवरण दर्ज करने के बाद, Declaration पर क्लिक करें और “SAVE & NEXT” बटन पर क्लिक करे।
  • इमेज अपलोड के लिए स्टेप 3 स्क्रीन पर दिखाई देगा।
  • अब ड्रॉप डाउन से Pilgrims को सेलेक्ट करे।
  1. फोटो और दस्तावेज़ अपलोड करने के लिए “Browse” पर क्लिक करें।
  2. सभी दस्तावेज केवल JPG/JPEG फॉर्मेट में होने चाहिए।
  3. फोटोग्राफ (पासपोर्ट साइज) 10kb से 100kb के बीच और चौड़ाई 100pixel से 148pixel के बीच होनी चाहिए।
  4. दस्तावेज़ का आकार 100kb से 500kb के बीच और चौड़ाई 570pixel से 795pixel के बीच होनी चाहिए।

Registered User Sign In- huj

  • सभी तीर्थयात्रियों के फोटो और दस्तावेज अपलोड करने के बाद ‘UPLOAD’ बटन पर क्लिक करें।
    इन चरणों को co-pilgrim के लिए फिर से दोहराया जायेगा।
  • इमेजेज को अपलोड करने के बाद, आवेदक Automatically रूप से Fee भुगतान के लिए लिंक पर जाएंगे।
  • आवेदक शुल्क का भुगतान डेबिट/क्रेडिट कार्ड/नेट बैंकिंग के माध्यम से कर सकते हैं।
  • ‘Online Payment’ के ऑप्शन को सेलेक्ट करे और “Click here to Pay Online” पर क्लिक करें।

Registered User Sign In- huj

  • Pay Online पर क्लिक करने के बाद, आपको भुगतान गेटवे पर पुनः निर्देशित किया जाएगा और भुगतान किया जाएगा।

Registered User Sign In- huj

  • लेन-देन के Successful Completion, लेनदेन रसीद जनरेट की जाएगी।
  • Successful Payment, के बाद, अंतिम सबमिशन के लिए ऑनलाइन HAF में फिर से लॉगिन करें।
    “FINAL SUBMISSION” पर क्लिक करें आपको अलर्ट का Message मिलेगा। इसके बाद OK पर क्लिक करें

Registered User Sign In- huj

  • एक unique सिस्टम जनरेटेड ग्रुप आईडी दिखाई जाएगी जो ऑनलाइन सबमिशन के सफलतापूर्वक पूरा होने का संकेत देती है।
  • ऑनलाइन हज आवेदन पत्र देखने/प्रिंट करने के लिए “Download PDF” पर क्लिक करें।

Registered User Sign In- huj

हज यात्रा के पीछे की मान्यता

1:- कुरान में बहुत पवित्र मानी गई है हज यात्रा

हज यात्रा को कुरान में बहुत ही पवित्र मन गया हैं। जो लोग शारीरिक, मानसिक और आर्थिक रूप से सक्षम हैं। उनके लिए जीवन में एक बार हज की यात्रा करना बहुत जरुरी होता हैं। यात्रा के दौरान मुस्लिमो को सफा और मरवा नामक दो पहाड़ियों के बीच सात चककर लगाने होते हैं। इन्ही पहाड़ियों के बीच पैगम्बर इब्राहिम की पत्नी ने अपने बेटे के लियए पानी की तलाश की थी।

इसके बाद मक्का से पांच किमी. दूर मिना में सारे हाजी एक साथ शाम तक नमाज़ अदा करते हैं। अगले दिन अरफ़ात नमी जगह पर पहुंचकर मैदान में नमाज़ अदा की जाती हैं। वहां से लौटकर सभी मुस्लिम शैतान को पत्थर मारने की रस्म अदायगी करते हैं। अर्थात अल्लाह के रास्ते में उनके बाशिंदे कभी शैतान को नहीं आने देंगे।

2:- खास तरह की पोशाक के साथ इन नियमों का पालन करना जरूरी

इस्लामी कैलेंडर के अनुसार 12 माह यानि ज़िलहिज्जा की आठवीं तारीख से 12वीं तारीख तक किया जाता हैं। इस दौरान कुछ नियमो का पालन भी करना होता हैं। सभी मुस्लिम हाजी यात्रा के दौरान एक खास तरह का लिबाज़ पहनते हैं जिसे एक चादर की तरह ही पूरे शरीर पर लपेटा जाता हैं। इसके साथ ही दाढ़ी या बाल काटना , इत्र या अन्य खुशबू का प्रयोग करना मना हो जाता हैं। शरीर की साफ- सफाई का ध्यान रखना जरुरी हो जाता हैं।

3:- बलि देने की प्रथा

हज यात्रा के दौरान मुस्लिम लोग बकरे, ऊंट, या भेड की क़ुर्बानी भी देते हैं। इसके पीछे मान्यता हैं की एक बार अल्लाह ने हज़रत इब्राहिम से क़ुर्बानी मांगी। इस दौरान क़ुर्बानी में उन्हें अपनी कोई सबसे पसंदीदा चीज़ अल्लाह को देनी थी। ऐसे में हजरत इब्राहिम मुश्किल म पड़ गए क्युकि उन्हें सबसे प्रिये अपना बेटा इस्माइल था। यह बेटा उन्हें बुढ़ापे में हुआ था। लेकिन हजरत इब्राहिम ने इसे अल्लाह का हुकुम मानकर अपने जिगर के टुकड़े की क़ुर्बानी देने का फैसला कर लिया था।

इस दौरान जब वह अपने बेटे की क़ुर्बानी के लिए जा रहे थे तब उनके रास्ते में एक शैतान ने उन्हें रोका और कहा कि जब वह अपने बेटे की क़ुर्बानी दे देंगे तो उनके बुढ़ापे में उनकी देखभाल कौन करेगा। इस दौरान हजरत इब्राहिम सोच में पड़ गए लेकिन फिर अल्लाह का हुक्म को पूरा करने के लिए आगे चल दिए।

हजरत इब्राहिम इस दौरान किसी तरह का कोई अटकल नहीं चाहते थे। उन्हें लगा कि कहीं वह भावुक न हो जाये और बेटे के मोह में वह क़ुर्बानी न दे पाएं। इसलिए उन्होंने सबसे पहले अपनी आँखों पर पट्टी बांध ली। इसके बाद बेटे की क़ुर्बानी की प्रक्रिया निभाई। ऐसे में जब हजरत इब्राहिम ने अपनी आँखे खोली तो वह हैरान थे क्यूंकि उनका बेटा उनके सामने जीवित खड़ा था।

जिस जगह पर उन्होंने अपने बेटे की क़ुर्बानी दी ही वंहा पर एक मेमना पड़ा था।
इसके बाद से ही बकरे व मेमनो की बलि दी जाने लगी। वहीं कुर्बानी के बाद रमीजमारात में शैतान को पत्‍थर मारने वाली रस्‍म के पीछे उस शैतान को दोषी माना जाता है क‍ि उसने हजरत इब्राहिम को बरगलाने की कोश‍िश की थी। आज भी यह रस्‍म न‍िभाई जाती है।

4:- मुंडन के बगैर अधूरी मानी जाती है हज यात्रा

कुर्बानी देने के बाद मुंडन कराना जरूरी होता हैं। इसके बगैर हज यात्रा पूरी नहीं मानी जाती। महिलाएं इस रस्म को पूरा करने के लिए अपने सिर से थोड़े से बाल कटवाती हैं। इसके बाद हाजी काबा में इमारत की परिक्रमा की जाती है।

इस लेख को पढ़ने के लिए आपका बहुत-बहुत धन्यवाद। अगर आपको इस लेख से जुड़ी कोई जानकारी चाहिए तो आप हमें कमेंट बॉक्स के जरिए बता सकते हैं। इस लेख को अपने दोस्तों या रिश्तेदारों के साथ जरूर शेयर करें। एक बार फिर से धन्यवाद।

हज क्या हैं?

हज यात्रा

इस्लाम धर्म में हज यात्रा का विशेष महत्व हैं।  हज यात्रा मक्का एवं मदीना की यात्रा है जहां पर देश का प्रत्येक मुसलमान सब्सिडी प्राप्त करके इस पवित्र स्थान पर जाकर अपनी मन की मुराद पूरी कर सकता है | हर साल के अंतिम महीने ज़िल हिज्जाह में हज यात्रा की जाती हैं। इस्लाम धर्म में स्त्री और पुरुष दोनों को जीवनकाल में एक बार का विधान हैं।

हज यात्रा कितने दिन की होती है?

हज यात्रा

यह तीर्थयात्रा इस्लामी कैलेंडर के 12 वें और अंतिम महीने ज़िल हिज्जाह की 8 वीं से 12 वीं तारीख तक की जाती है। इस्लामी कैलेंडर एक चंद्र कैलेंडर है इसलिए इसमें, पश्चिमी देशों में प्रयोग में आने वाले ग्रेगोरियन कैलेंडर से ग्यारह दिन कम होते हैं, इसीलिए ग्रेगोरियन कैलेंडर के अनुसार हज की तारीखें साल दर साल बदलती रहती हैं।

हज यात्रा 2022 की आवेदन तिथि बताइये?

हज यात्रा

हज यात्रा के लिए आवेदन 9 April 2022 से 22 April 2022 तक कर सकते हैं।

हज यात्रा के लिए आवेदन करने की आधिकारिक वेबसाइट बताइये?

हज यात्रा के लिए पात्रता मापदंड क्या हैं?

हज यात्रा

– हज यात्रा के लिए आयु सीमा कम से कम 18 वर्ष और अधिकतम 65 वर्ष हैं।
– हज की यात्रा 36-42 दिन की होगी।
– हज यात्रा केवल मुस्लिम धर्म के लोगो के लिए ही हैं।
– गर्भवती महिला को हज यात्रा में जाने की अनुमति नहीं हैं।
– जो कोई भी व्यक्ति शारीरिक रूप से स्वस्थ्य नहीं हैं उन्हें भी हज यात्रा में जाने के लिए मनाई हैं।